गुजरात : भाजपा सांसद पर फूटा भूखी “गाय माता” का गुस्सा, दो पसलियां टूटी आईसीयू में भर्ती !

National

 

गांधीनगर : केंद्र और अन्य प्रदेश में मौजूद भाजपा सरकारों की गलत नीतियों के चलते आज पूरे देश में छुट्टा जानवरों का कहर बरपा हुआ है, स्कूल जाते बच्चों तथा घर का सामान लाती महिलाओं पर इन छुट्टा जानवरों के हमले की असंख्य घटनाएं सामने आ चुकीं हैं। मोदी सरकार के फर्जी हिंदुत्व अजेंडे के चलते ये छुट्टा जानवर अब यमराज का रूप ले चुके हैं, यूपी में पिछले 1.5 साल के दौरान सैकङों लोगों की जान इन छुट्टा जानवरों के हमलों तथा सड़क पर बैठे हुए जानवरों की वजह से जा चुकी है। जहाँ इन छुट्टा जानवरों से शहरों की जनता, हाईवे और सड़क पर चलने वाले लोग परेशान हैं तो वहीँ इनसे सबसे ज्यादा परेशान हैं हमारे देश का अन्नदाता किसान, जिसकी मेहनत की फसल को ये छुट्टा जानवर पूरी तरह से बर्बाद कर दे रहे हैं।

गौ रक्षा के नाम पर गाय माता को भी धोखा देने वाले भाजपा नेताओं पर गौ माता को आया गुस्सा, भाजपा सांसद को उठा-उठा कर पटका गंभीर रूप से हुए घायल !

गुजरात के पाटण लोकसभा सीट से भाजपा सांसद व पूर्व मंत्री लीलाधर वाघेला एक छुट्टा गाय के हमले में गंभीर रूप से घायल हो गए। बताया जाता है कि उनके सीने की दो पसलियां टूट गई है। शरीर के अंदर ब्लीडिंग होने की वजह से खून का थक्का जम गया है। इस वजह से उन्हें सांस लेने में भी परेशानी हो रही है। उन्हें गांधीनगर के अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। उनकी गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें आईसीयू में रखा गया है। इस घटना की सूचना मिलते ही कई नेता अस्पताल पहुंचे और उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, परिजनों ने बताया कि, “वाघेला गांधीनगर के सेक्टर 21 स्थित पंचशील पार्क सोयायटी स्थित अपने आवास से गुरुवार की दोपहर सड़क की ओर निकले थे। इसी दौरान सड़क पर एक गाय ने उनके उपर हमला कर दिया। उन्होंने रूमाल दिखा गाय को भगाने की कोशिश की, लेकिन वे खुद को इस हमले से नहीं बचा पाए। इस हमले में उनकी सीने की पसलियां टूट गई। वे गंभीर रूप से घायल हो गए।” घटना की सूचना मिलते ही आसपास के लोग और परिजन उन्हें लेकर अपोलो अस्पताल गए। यहां उन्हें डॉक्टरों की विशेष निगरानी में रखा गया है।

बता दें कि कुछ समय पहले लीलाधर वाघेला उस समय चर्चा में अाए थे, जब उनके पोते अजय वाघेला कांग्रेस में शामिल हो गए थे। वे कांग्रेस के यूथ विंग में शामिल हुए। कहा जा रहा है कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में युवाओं को पार्टी से जोड़ने का काम करेंगे। इस कदम से गुजरात के राजनीतिक गलियारे में सरगर्मी बढ़ गई थी। वजह ये रही कि लीलाधर वाघेला प्रदेश भाजपा के ताकतवर नेताओं में से एक हैें। उनकी पार्टी पर भी पकड़ मजबूत है और क्षेत्र में भी। ऐसे में उनके पोते द्वारा लिया गया यह फैसला चौंकाने वाला है। मिशन 2019 की तैयारी में जुटी भाजपा के लिए एक झटका है।

Source: Indiakinews