गंगा से काशी विश्वनाथ मंदिर की राह में आने वाले भवन खरीदेगी सरकार

National

लखनऊ: योगी सरकार वाराणसी में गंगा नदी से काशी विश्वनाथ मंदिर तक मार्ग का विस्तार किया जा रहा है। इसकी राह में पड़ने वाली 166 सम्पत्तियों का अधिग्रहण किया जाएगा। इन संपत्तियों में भूमि और भवन शामिल हैं। मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

आपको बता दें कि गंगा नदी से काशी विश्वनाथ मंदिर तक विस्तारीकरण और सुंदरीकरण की योजना शुरू हुई है। इसकी राह में 166 भवन/भूमियां पड़ रही हैं। इसमें कुछ पब्लिक, प्राइवेट ट्रस्ट और मंदिर है। सेवित प्रापर्टी के साथ निजी भवन भी शामिल हैं। सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक एक—एक करके इन प्रापर्टियों को खरीदने का प्रयास किया जा रहा है।

इन संपत्तियों में 24 ऐसी संपत्त्यिा हैं। जिन्हें विनियमन के आधार पर लिया जाना है। यह सेवित प्रापर्टी हैं। यानि जिन प्रापर्टी के सेवादार होते हैं। मालिक नहीं होते हैं। कानून में सेवादार को कुछ देने का प्रावधान नहीं है। तो तय किया गया कि सेवादार को उसी के बराबर प्रापर्टी दे दी जाए। इसलिए ऐसे सेवादारों को वाराणसी में दूसरी जगह  10 प्रतिशत अधिक या कम लागत पर संपत्ति खरीदकर दी जाएगी। इस पर 14.55 करोड़ का खर्च अनुमानित है। जमीन अधिग्रहीत करने के लिए समय सीमा तय नहीं की गई है। आपसी सहमति के आधार पर यह जमीन सरकार अपने कब्जे में लेगी।

अब इंश्‍योरेंस नहीं अश्‍योरेंस मॉडल पर आयुष्‍मान भारत मिशन

यूपी में आयुष्मान भारत नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन मिशन इंश्‍योरेंस नहीं बल्कि अश्‍योरेंस माडल पर काम करेगा। इसमें स्वास्थ्य विभाग की पीएसयू सांची ट्रस्ट के तौर पर रहेगी। लाभार्थी प्राइवेट और पब्लिक कम्पनी के बजाए ट्रस्ट को भुगतान करेंगे। केंद्र और राज्य सरकार का पैसा भी ट्रस्ट में जाएगा। इंश्योरेंस कम्पनी को प्रीमियम नहीं जाएगा। कैबिनेट की बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि आंध्र प्रदेश, गुजरात समेत अन्य राज्यों में अध्ययन करने के बाद यह निर्णय लिया गया है। अधिकांश राज्यों में यह योजना ट्रस्ट माडल पर ही काम हो रहा है।

यह ट्रस्ट स्वास्थ्य विभाग की पीएसयू है। चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में गठित गवर्निंग काउंसिल इस पर नजर रखेगी। इसमें प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के अलावा, ग्राम्य विकास, वित्त, श्रम समेत अन्य महकमों के अधिकारी सदस्य होंगे। आयुष्मान मित्र को पांच हजार का मानदेय दिया जाएगा और हर केस पर 50 रूपये दिया जाएगा। 59 करोड़ का प्रशासनिक फंड है। यह भी 60:40 का केंद्र और राज्य का फंडिंग का अनुपात है। योजना का यूपी में कुल 440 करोड़ का बजट है। इसमें 660 करोड़ केंद्र सरकार देगी।

अखिलेश कर रहे ध्यान भटकाने का प्रयास

सिद्धार्थनाथ सिंह ने सपा मुखिया अखिलेश यादव के बयान पर कहा कि सरकार अखिलेश यादव की तरह भ्रमित नहीं करते। पुराने लैपटाप शिक्षकों को बांटते हैं। शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर भ्रमित करते हैं। हम नये लैपटाप बांट रहे हैं।अखिलेश अपने परिवार को संभाल नहीं पा रहे हैं। महानेतृत्व का नेतृत्व करना चाहते हैं। इससे उन पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है कि जब अपने परिवार को संभाल नहीं पा रहे हो तो गठबंधन को क्या संभालेंगे। आपने पांच साल भ्रमित किया आज भी कर रहे हैं। आपकी पार्टी के अंदर, गठबंधन के अंदर जो प्रश्नचिन्ह लग गया है। उससे ध्यान भटकाने का प्रयास कर रहे हैं।

बीआरडी में इस साल अगस्त में सिर्फ 86 मरीज 

डा सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि पिछले साल अगस्त के महीने में बीआरडी मेडिकल कालेज के अंदर जेई और एईएस के 400 मरीज आए थे। इस साल अगस्त में 86 मरीज आए थे। पिछले साल 80 से ज्यादा मौतें हुई थी। इस साल सिर्फ 6 मौतें हुई हैं। अनेक पखवाड़े किए, दस्तक अभियान चलाया। 66 लाख घरों पर दस्तक दिया। 75 हजार हेल्थ वर्कर को ट्रेनिंग दी। योगी जी ने जो रास्ता दिखाया। हम लोगों को लगता सही है। 100 वेंटीलेटर जिला अस्पताल और सीएचसी और पीएचसी में की। इस लड़ाई में सफलता अदभुत है। अगले साल बेहतर परफार्मेंस कर पाएंगे।

The post गंगा से काशी विश्वनाथ मंदिर की राह में आने वाले भवन खरीदेगी सरकार appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack