मिसाइलों से खौफ मचाने वाले सनकी तानाशाह किम जोंग ने दिखाई शराफत

International
उत्तर कोरिया ने अपनी स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ धूमधाम से मनाई। इस मौके पर सैन्य परेड भी निकाली गई। हमेशा अपनी ताकत दिखाने वाले उत्तर कोरियो ने इस खास दिन पर परमाणु शक्ति से लैस अत्याधुनिक मिसाइलों का प्रदर्शन नहीं किया। यही नहीं उत्तर कोरिया ने  इंटर कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइलों (आईसीबीएम) का प्रदर्शन भी नहीं किया।

आईसीबीएम अमेरिका के मुख्य भूभाग तक मार करने में सक्षम हैं।  मिसाइलों का प्रदर्शन न करने से साफ हो गया है कि किम जोंग उन अब पूरी तरह से अमेरिकी राष्ट्रपति को प्रभावित करना चाहते हैं। इससे एक बात और जाहिर होती है कि  इससे जाहिर है कि तानाशाह किम जोंग उन देश की अर्थव्यवस्था को विकसित करने पर जोर दे रहे हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप  ने इसकी सराहना करते हुए कहा कि इससे सकारात्मक संदेश जाएगा।  प्योंगयांग के मध्य में किम जोंग उन के समक्ष जवानों, तोपों और टैंकों का प्रदर्शन किया गया, लेकिन किसी प्रकार के परमाणु हथियारों के साथ शक्ति प्रदर्शन नहीं किया।

ट्रंप ने शक्ति प्रदर्शन न करने पर किम जोंग उन का शुक्रिया भी कहा। ‘उत्तर कोरिया की ओर से यह काफी सकारात्मक संदेश है। शुक्रिया चेयरमैन किम। हम सबको गलत साबित कर देंगे। दो लोग जो एक-दूसरे को बेहद पसंद करते हैं उनके बीच हुई अच्छी बातचीत से बेहतर कुछ भी नहीं। मेरे कार्यकाल से पहले की स्थिति से तुलना में यह काफी बेहतर है।’

आपको बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से उत्तर कोरिया हर बार अपने स्थापना दिवस पर परमाणु हथियारों के साथ शक्ति प्रदर्शन  करता रहा है। चीनी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक किम ने कहा कि उत्तर कोरिया सिंगापुर में हुई अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप के साथ हुई बैठक का सम्मान करता है और इसलिए हमने इस बार अपने परमाणु हथियार का प्रदर्शन नहीं किया है। हम उम्मीद करते हैं कि अमेरिका भी हमारा सहयोग करेगा और महाद्वीप के मुद्दे पर राजनैतिक सुधार की प्रक्रिया को संयुक्त रूप से आगे बढ़ाएगा।’

Source: Purvanchal media