राष्ट्र में राफेल को लेकर चल रहे विवादों के बाद भी क्यों नहीं हुई राफेल डील रद्द

National
राष्ट्र में राफेल को लेकर चल रहे विवादों के बाद भी डील रद्द नहीं करने की ख़ास वजह क्या है यह जानकारी अभी आमलोगों की पंहुच से परे है जानकारी के मुताबिक राफेल सबसे तेज गति के साथ बेहतरीन मारक क्षमताओं के साथ अन्य सम्पूर्ण खूबियों की समीक्षा एवं अन्य सभी विशेषता की परख एवं समझ के लिए इंडियन एयर फ़ोर्स वर्ष के अंत तक एक टीम फ्रांस भेजने की तैयारी कर रही है हिंदुस्तान गवर्नमेंट ने साल 2016 में फ़्रांस की गवर्नमेंट के साथ 36 फुली लोडेड राफेल विमानों की खरीद का गवर्नमेंट से गवर्नमेंट ‘ओवर द काउंटर’ सौदा किया था उम्मीद है की आने वाले वर्ष के भीतर ही इन विमानों की आपूर्ति प्रारम्भ हो जाएगी

Image result for राफेल डील रद्द

राफेल के इंडियन वायु सेना में शामिल होते ही सेनाकीताक़त में कईगुना इज़ाफ़ा होना तय है मिली ख़बरों के आधार पर, इन 36 में लड़ाकू विमानों में से दो पल्टन बनाई जाएंगी, एक 15-18 की टोली अम्बाला में पाकिस्तानी मोर्चे के लिए तो दूसरी हाशिमपुरा बंगाल में चाइना के मुक़ाबले के लिए रखीं जाएंगी राफेल की गति लगभग 2400किमी /घंटा के आस-पास है इसके साथ ही सबसे बड़ी अच्छाई है की यह विमान राडार की पकड़ में आते ही नहीं हैं वायुसेना के पास फिल्हाल 31स्क्वैड्रन विमान हैं राफेल इनके मुक़ाबले हल्का  फुर्तीला है, जिसकी क्षमता 1000 नॉटिकल मील है हिंदुस्तान के पास कुल 836 विमान है जिनमे से लड़ने लायक आधे ही हैं,राफेल के आने से इनकी खूबियों  मारक क्षमताओं में बढ़ोत्तरी होना तय है

राफेल 36 से 60 हज़ार फिट की ऊंचाई तक उड़ सकता है, इसमें लगी गन एक मिनिट में 125 से ज्यादा राउंड फायर करने में सक्षम है, साथ ही यह हर मौसम में खतरे को भांप लेने की क़ाबिलियत रखता है राफेल में एक बार फ्यूल भरने पर 10 घंटे तक उड़ान भर सकता है

Source: Purvanchal media