National

म्यांमार में हिंदुओं पर जुल्म की खौफनाक दास्तां…

पश्चिमी म्यांमार के हिंदू आबादी वाले गांव में रीका धर ने अपने पति, दो भाइयों और कई पड़ोसियों को नृशंसतापूर्वक मौत के घाट उतारे जाते और बाकी खौफजदा कुछ लोगों को हाथ पीछे बांधकर पहाड़ियों में ले जाते हुए देखा. अपने दो बच्चों के साथ भागकर बांग्लादेश के भीतर हिंदू शिविर में पनाह लिए हुए 25 वर्षीया धर ने कहा, ‘कत्ल करने के बाद, उन्होंने बड़े-बड़े तीन गड्ढे खोदे और उन सबको उसमें फेंक दिया. उनके हाथ उस समय भी पीछे की ओर बंधे हुए थे और आंखों पर पट्टी बांध दी गयी थी.’ चश्मदीदों ने बताया कि उत्तरी राखाइन प्रांत के खा मुंग सेक में हिंदुओं के छोटे से गांव में खूनखराबा हुआ जहां म्यांमार प्रशासन ने रविवार से कब्रगाहों से 45 शवों को खोदकर निकाला

म्यांमार में हिंदुओं पर जुल्म की खौफनाक दास्तां, 'कत्ल करने के बाद सबको गड्ढों में फेंक दिया गया'

सेना का कहना है कि शवों की बरामदगी 25 अगस्त को रोहिंग्या मुसलमानों द्वारा ढाए गए कहर को बयां करती है. उस दिन आतंकवादियों ने पुलिस चौकियों पर छापा मारा और सांप्रदायिक रक्तपात को अंजाम दिया.

रोहिंग्या कैंपों के पास कॉक्स बाजार में हिंदुओं की छोटी सी बस्ती में 15 वर्षीया प्रोमिला शील ने कहा, ‘पहाड़ियों में ले जाने के बाद उन्होंने हर किसी को मौत के घाट उतार दिया. मैंने अपनी आंखों के सामने यह सब देखा.’
बता दें कि म्यांमार की सेना और रोहिंग्या मुसलमानों के बीच पिछले कई सालों से संघर्ष चल रहा है. यहां बढ़ रही हिंसा की वजह से रोहिंग्या मुसलमान दूसरे देशों की ओर पलायन कर रहे हैं. ये लोग यहां से भागकर बांग्लादेश और भारत में शरण ले रहे हैं. जानकार बताते हैं कि ये लोग अपने अधिकार वापस पाने के लिए हिंसा का सहारा ले रहे हैं. रोहिंग्या और म्यांमार सेना के बीच हो रही हिंसा में अब तक 400 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं, हजारों परिवार तबाह हो गए हैं.

The post म्यांमार में हिंदुओं पर जुल्म की खौफनाक दास्तां… appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
म्यांमार में हिंदुओं पर जुल्म की खौफनाक दास्तां…