भूखे पेट खेल बना क्रिकेटर, अब रहता हैं गांव में

Sports


एक समय भारत के सबसे तेज गैंदबाज रहे मुनाफ पटेल आज अपने गांव में रहते है। इंगलैण्ड के खिलाफ 2005 में मोहाली टेस्ट से डेब्यू करने वाले मुनाफ ने अपने पहले ही मैच में 97 रन देकर सात विकेट लिए थे और अपनी रफ्तार से सनसनी मचा दी थी। मुनाफ उस समय 145 से अधिक की रफ्तार से गैंद डालते थे। उन्हें ऑस्टिे्रलिया और दक्षिण अफ्रिका गैंदबाजों का जवाब माना गया। लेकिन एक साल के अंदर ही चोटों के चलते उन्हें अपनी रफ्तार कम करनी पड़ी और फिर वे पहले जैसे बॉलर नहीं रहे।

मुनाफ का जन्म गुजरात के भ्रूच जिले के इकहर गांव में 12 जुलाई 1983 को हुआ। उनका परिवार काफी गरीब था और मुनाफ को कई बार भूखा सोना पड़ता था। उनके पिता कपास के खेतों में खेतों में मजदूरी करते थे। मुनाफ ने खेतों में खेलते खेलते अपनी गैंदबाजी को तराशा और सबसे तेज गैंदबाज बने।

उन्होंने सिर्फ 70 वनडे और 13 टेस्ट मैच खेले। उन्होंने दो वल्र्डकप भी खेले और एक बार विजेता टीम के सदस्य भी रहे। लेकिन 2011 वल्र्डकप के बाद बाहर होने के बाद उन्हें टीम में नहीं लिया गया।

सैफ अली खान और उनके बच्चे हुए ‘आईफा 2017’ के लिए न्यूयॉर्क रवाना

ब्लैक हेड्स को हटाने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय

ईशा गुप्ता के लेटेस्ट लुक्स जो हैं पार्टी और फेस्टिवल के लिए बेस्ट

मानसून में बॉलीवुड सेलेब्स का फ्लोरल लुक

The post भूखे पेट खेल बना क्रिकेटर, अब रहता हैं गांव में appeared first on Fashion NewsEra.

Source: Fashion newsera
Click link to read original post
भूखे पेट खेल बना क्रिकेटर, अब रहता हैं गांव में