National

हाईकोर्ट ने योगी सरकार को लताड़ा, रद्द किया योगी सरकार का फैसला, पढ़ें पूरा मामला !

योगी सरकार को लताड़ते हुए हाईकोर्ट ने रद्द किया फैसला, दो माह में भरे जाएंगे 77,804 शिक्षकों के पद

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को हाई कोर्ट ने जमकर फटकार लगाई है। जिसकी वजह है युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना। पूर्व की अखिलेश सरकार द्वारा निकाली गयी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों की दो महत्वपूर्ण शिक्षक भर्तियों पर सरकार बनते ही योगी सरकार ने रिक लगा दी थी। अब सरकार के इस फैसले को पलटते हुए रोक लगाने का आदेश हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया है और कोर्ट ने ये भर्तियां दो माह में पूरी करने का सरकार को आदेश दिया है।

प्रदेश सरकार ने 29334 गणित-विज्ञान के सहायक अध्यापकों और 16448 प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापक भर्ती पर 23 मार्च 2017 को रोक लगा दी थी। कोर्ट ने यह आदेश रद्द कर दिया है।

नीरज कुमार पांडेय और अन्य अभ्यर्थियों की याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति पीकेएस बघेल ने यह आदेश दिया। याची के अधिवक्ता सीमांत सिंह के मुताबिक उच्च प्राथमिक स्कूलों में गणित-विज्ञान के 29334 सहायक अध्यापक भर्ती का शासनादेश 11 जुलाई 2013 को जारी हुआ था।

नियुक्ति प्रक्रिया आगे बढ़ी और काउंसिलिंग के बाद भी हजारों पद रिक्त रह गए। सरकार ने 30 दिसंबर 2016 को आदेश जारी कर बचे पदों पर काउंसिलिंग कर नियुक्ति देने का आदेश जारी किया। इस बीच प्रदेश में सरकार बदल गई और योगी सरकार ने 23 मार्च 2017 को नियुक्तियों पर रोक लगा दी।

इसी प्रकार से प्राथमिक विद्यालयों में 16448 सहायक अध्यापक भर्ती में भी रिक्त रह गए पदों पर भर्तियां होनी थी, जिस पर 23 मार्च 2017 के आदेश से रोक लगा दी गई। अधिवक्ता की दलील थी कि दोनों भर्तियों को रोकने की कोई वजह नहीं बताई गई।

Source: Indiakinews
Click link to read original post
हाईकोर्ट ने योगी सरकार को लताड़ा, रद्द किया योगी सरकार का फैसला, पढ़ें पूरा मामला !