शीतकालीन सत्र से पहले गैरसैंण पर गरमाई सियासत

National

देहरादून, : गैरसैण में विधानसभा के सात दिसंबर से प्रस्तावित शीतकालीन सत्र से पहले ही सियासत गरमाने लगी है. बीजेपी ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने का कार्ड खेला है तो कांग्रेस पार्टी का कहना है कि पहले राज्य गवर्नमेंट निर्णय ले  फिर वह इस मसले पर अपने पत्ते खोलेगी. सूरतेहाल, साफ है कि दोनों ही दल पर्दे के पीछे रहकर राज्यवासियों की भावनाओं से जुड़े इस सवाल पर स्थिति स्पष्ट नहीं करना चाहते. दोनों की मंशा दर्शाती है कि गैरसैंण का प्रश्न यूं ही फुटबाल बना रहे  सियासत चलती रहे.

गढ़वाल  कुमाऊं मंडलों के मध्य में स्थित गैरसैंण को राजधानी बनाना राज्य आंदोलन की भावना थी. नौ नवंबर 2000 को उत्तराखंड समेत तीन राज्यों का उदय हुआ तो देहरादून को उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी बनाकर स्थायी राजधानी का मसला यहां की गवर्नमेंट के लिए छोड़ दिया गया.तब से 17 वर्ष गुजरने को हैं, लेकिन स्थायी राजधानी का सवाल अभी भी अधर में लटका है, जबकि यहां अब तक दोनों ही प्रमुख दल बीजेपी और कांग्रेस पार्टी बारी-बारी सत्तासीन होते आए हैं.

हालांकि, गैरसैण में विधानसभा भवन समेत अन्य आधारभूत सुविधाएं जुटाई गई हैं, लेकिन इसे लेकर घोषणा करने में दोनों ही दल हिचकिचाते आए हैं. अलबत्ता, राजधानी के प्रश्न पर एक-दूसरे को कोसकर सियासी रोटियां जरूर सेंकी जाती रही हैं. ये जरूर है कि गैरसैण में तीन विस सत्र हो चुके हैं, लेकिन सच ये है कि जनभावनाओं की लगातार अनदेखी की जा रही है.

अब जबकि, राज्य में बीजेपी सत्तासीन हुई है तो उसने भी कांग्रेस पार्टी की भांति गैरसैंण में ग्रीष्मकालीन सत्र घोषित करने के साथ ही गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की बात कही.हालांकि, गवर्नमेंट ने अभी इस पर रुख स्पष्ट नहीं किया है. यही नहीं, अब सात दिसंबर से गैरसैंण में विस का सत्र आहूत करने के गवर्नमेंट के निर्णय से सियासत गरमाने लगी है.

भाजपा  कांग्रेस पार्टी दोनों की ओर से चल रहे शब्दबाण इसे तस्दीक करते हैं. कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि राज्य गठन के वक्त राजधानी घोषित न करना एक बड़ी चूक थी. हालांकि, वे यह भी कहते हैं कि पिछली कांग्रेस पार्टी गवर्नमेंट ने गैरसैंण में आधारभूत ढांचा विकसित कर राजधानी की दिशा में कदम बढ़ाया. अब बीजेपी गवर्नमेंट को इस पर फैसला लेना है, इसके बाद ही गैरसैंण पर कांग्रेस पार्टी अपने पत्ते खोलेगी.

वहीं, बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ देवेंद्र भसीन ने बोला कि गैरसैंण पर बीजेपी का मंतव्य साफ है.पार्टी ने अपने दृष्टिपत्र के साथ ही CM  प्रदेश अध्यक्ष ने भी साफ किया किया है कि गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी के रूप में विकसित किया जाएगा. इस दिशा में बीजेपी आगे बढ़ रही है.

The post शीतकालीन सत्र से पहले गैरसैंण पर गरमाई सियासत appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
शीतकालीन सत्र से पहले गैरसैंण पर गरमाई सियासत