सरकारी अधिकारी बनकर देते थे जॉब लगाने का झांसा

National
सरकारी अधिकारी बनकर बेरोजगार युवकों को जॉब दिलवाने का झांसा देकर लाखों रुपए हड़पने वाली एक गैंग का खुलासा हुआ है. जिसमें शामिल दो मुख्य आरोपियों को पुलिस ने अरैस्ट किया है.
यह रैकेट जयपुर, राजस्थान समेत अन्य चार राज्यों में जॉब दिलाने के नाम पर बेरोजगारों से लाखों रुपये ठग चुका है. यह गैंग यूपी से ठगी की वारदातें करता है. जिसमें शामिल ठग शातिराना तरीके से खुद को CBI  अन्य बड़े सरकारी अधिकारी बताकर विभिन्न राज्यों में अपने एजेंट बनाकर नेटवर्क तैयार करते है. फिर सरकारी जॉब दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवकों से मोटी रकम वसूल करते है.

एसीपी कोतवाली सुमित कुमार ने बताया कि उनियारों का रास्ता चांदपोल निवासी बन्ने सिंह ने रविवार को नाहरगढ़ थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था. जिसमें बन्ने सिंह ने उत्तरप्रदेश के रहने वाले डॉ रजनीश कुमार यादव, रवींद्र सिंह, दिनेश जोशी  मनीष पर ठगी कर 14 लाख रुपए हड़पने का आरोप लगाया था.

इनमें चिकित्सक रजनीश यादव पिछले ​महिने ही कोतवाली थाना, जयपुर नार्थ में अरैस्ट हुआ था, जबकि आरोपी रविंद्र सिंह को नाहरगढ़ थाना पुलिस ने तिहाड़ कारागार से प्रोडक्शन वारंट पर अरैस्टकिया है. इससे पहले परिवादी बन्नेसिंह भी जॉब के नाम पर ठगी के केस में अरैस्ट हो चुका है. ​

गत मई माह में चांदपोल निवासी महिला ने इलाहाबाद न्यायालय में क्लर्क के पद जॉब लगाने का झांसा देकर 13 लाख रुपए हड़पने का केस कोतवाली थाने में दर्ज करवाया था. जिसमें परिवादी बन्नेसिंह कुशवाहा समेत रमेशचंद बैरवा, अशोक टेलर और महेंद्र अग्रवाल रुपए हड़पने का आरोप लगाया.

कोतवाली पुलिस को पूछताछ में अरैस्ट बन्नेसिंह और अन्य आरोपियों ने बताया था कि वे एक कंपनी के लोकल एजेंट है. गैंग के मुखिया उत्तर प्रदेश में डॉ रजनीश कुमार यादव, रविन्द्र कुमार, दिनेश जोशी और मनीष है, जो कि सरकारी जॉब लगाने के बहाने लाखों रुपए वसूलते है. इस मुकदमे में जमानत मिलने पर बन्ने सिंह ने उत्तर प्रदेश की गैंग के इन सरगनाओं के विरूद्ध मुकदमा दर्ज करवाया.

The post सरकारी अधिकारी बनकर देते थे जॉब लगाने का झांसा appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
सरकारी अधिकारी बनकर देते थे जॉब लगाने का झांसा