अयोध्या टकराव पर सुप्रीम न्यायालय में अंतिम सुनवाई 2 बजे से होगी शुरू

National

नई दिल्ली: सुप्रीम न्यायालय में अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा गिराये जाने (6 दिसंबर) की 25वीं वर्षगांठ से एक दिन पहले राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्वामित्व टकराव पर आज (5 दिसंबर) से अंतिम सुनवाई प्रारम्भ होने की आसार है मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण  न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की तीन सदस्यीय विशेष पीठ चार दीवानी मुकदमों में इलाहाबाद उच्च कोर्ट के 2010 के निर्णय के विरूद्ध दायर 13 अपीलों पर सुनवाई करेगी

1. सुप्रीम न्यायालय की बेंच पहले इस बात को देखेगी कि उर्दू, फारसी, संस्कृत, पाली सहित कई भाषाओं के दस्तावेजों का अंग्रेजी में अनुवाद हो पाया है या नहीं

2. शीर्ष न्यायालय के पहले के निर्देशों के अनुरूप यूपी की योगी आदित्यनाथ गवर्नमेंट ने उन दस्तावेज की अंग्रेजी अनुदित प्रति पेश कर दी हैं जिन्हें वह अपनी दलीलों का आधार बना सकती हैये दस्तावेज आठ विभिन्न भाषाओं में हैं

3. इलाहाबाद हाई न्यायालय ने अपने निर्णय में अयोध्या में 2.77 एकड़ के इस विवादित स्थल को इस टकराव के तीनों पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा  ईश्वर राम लला के बीच बांटने का आदेश दिया था

4. यूपी के सेन्ट्रल शिया वक्फ बोर्ड ने इस टकराव के निवारण की पेशकश करते हुये कोर्ट से बोला था कि अयोध्या में विवादित स्थल से ‘उचित दूरी’ पर मुस्लिम बहुल्य इलाके में मस्जिद का निर्माण किया जा सकता है

5. शीर्ष न्यायालय ने 11 अगस्त को यूपी गवर्नमेंट से बोला था कि 10 हफ्ते के भीतर हाई न्यायालयमें मालिकाना हक संबंधी टकराव में दर्ज साक्ष्यों का अनुवाद पूरा किया जाये

6. कोर्ट ने स्पष्ट किया था कि वह इस मामले को दीवानी अपीलों से इतर कोई अन्य शक्ल लेने की अनुमति नहीं देगा  उच्च कोर्ट द्वारा अपनाई गयी प्रक्रिया ही अपनायेगा

7. शिया वक्फ बोर्ड के इस हस्तक्षेप का अखिल इंडियन सुन्नी वक्फ बोर्ड ने विरोध किया इसका दावा है कि उनके दोनों समुदायों के बीच पहले ही 1946 में इसे मस्जिद घोषित करके इसका न्यायिक निर्णय हो चुका है जिसे छह दिसंबर, 1992 को गिरा दिया गया था यह सुन्नी समुदाय की है

8. एक अन्य मानवाधिकार समूह ने इस मामले में हस्तक्षेप का अनुरोध करते हुये शीर्ष न्यायालय में एक अर्जी दायर की  इस मुद्दे पर विचार का अनुरोध करते हुये बोला कि यह महज संपत्ति का टकराव नहीं है बल्कि इसके कई अन्य पहलू भी है जिनके राष्ट्र के धर्म निरपेक्ष ताने बाने पर दूरगामी प्रभाव पडेंगे

9. ईश्वर राम लला की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता के परासरण  सी एस वैद्यनाथन तथा अधिवक्ता सौरभ शमशेरी पेश होंगे  यूपी गवर्नमेंट की ओर से अलावा सालिसीटर जनरल तुषार मेहता पेश होंगे

10. अखिल इंडियन सुन्नी वक्फ बोर्ड  निर्मोही अखाडे़ का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल, अनूप जार्ज चौधरी, राजीव धवन  सुशील जैन करेंगे

The post अयोध्या टकराव पर सुप्रीम न्यायालय में अंतिम सुनवाई 2 बजे से होगी शुरू appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
अयोध्या टकराव पर सुप्रीम न्यायालय में अंतिम सुनवाई 2 बजे से होगी शुरू