गैरसैंण में हंगामे के बीच विधानसभा सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

National
प्रतिकूल हालातों  विपक्ष के हंगामे के बीच विधानसभा का सत्र दो दिन में ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया. गवर्नमेंट ने 13 दिसंबर तक सत्र चलाने का प्रोग्राम बनाया था, लेकिन सत्र संपन्न होने से पूर्व सदन में विपक्ष ने हमलावर रुख अख्तियार करते हुए किडनी कांड, महंगाई बेरोजगारी के मुद्दे पर वेल में जमकर हंगामा काटा  सदन से वॉकआउट किया.
विपक्ष ने एनएच घोटाले, केदारनाथ पुनर्निर्माण जैसे मुद्दों के जरिये भी गवर्नमेंट की घेराबंदी के कोशिश किए. गवर्नमेंट ने भी इनका मुखर होकर जवाब दिया  रणनीतिक तरीके से अपना कामकाज निपटाया.

गवर्नमेंट ने सदन में उत्तराखंड विनियोग (2017-18 का प्रथम अनुपूरक) विधेयक, आधार अधिनियम, उत्तराखंड दुकान  स्थापन (रोजगार विनियमन सेवा-शर्त) विधेयक समेत कुल 12 विधेयकों, जिनमें संशोधित विधेयक भी शामिल हैं, को ध्वनिमत से पारित कराया. एक विधेयक सदन पटल पर पेश हुआ.

ट्रान्सफर विधेयक  आवासीय विवि संशोधन विधेयक को गवर्नमेंट बृहस्पतिवार को ही मंजूरी दे चुकी थी. संसदीय काम मंत्री प्रकाश पंत ने जब सदन स्थगित करने का प्रस्ताव किया तो विधायक प्रीतम पंवार ने इससे असहमति प्रकट की.

नेता प्रतिपक्ष डॉ इंदिरा हृदयेश को भी कहना पड़ा कि सत्र कराने का समय उपयुक्त नहीं था, जिसके जवाब में नेता सदन त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बोला कि पिछली गवर्नमेंट ने वादा किया था, जिसे हमने निभाया है.

सुबह ही मिल गए थे समापन के संकेत
विपक्ष से लेकर सत्ता पक्ष के कतिपय सदस्य भराड़ीसैंण की परिस्थितियों को लेकर असहज थे उन्होंने प्रातः काल संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत से दिक्कतों के विषय में भी मुलाकात की थी.शुक्रवार को सत्र के समापन से पहले गवर्नमेंट ने देर शाम तक अपना कामकाज निपटाया. शाम करीब छह बजे संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने का प्रस्ताव रखा, जिसे सदन में मंजूरी दे दी.

विपक्ष ने किडनी कांड पर गवर्नमेंट को घेरा
सत्र के दूसरे दिन विपक्ष एकजुट  हमलावर नजर आया. उसने रणनीतिक तरीके से किडनी कांड के मुद्दे पर गवर्नमेंट को घेरा. इस पर खूब हंगामा भी हुआ  उसने सदन से वॉकआउट कर दिया. महंगाई  बेरोजगारी के मुद्दे पर विपक्ष के तेवर खासे आक्रामक रहे. कानून व्यवस्था के मुद्दे पर भी सदन गवर्नमेंट के तर्कों से सहमत नहीं दिखा. उपनेता प्रतिपक्ष करन माहरा ने सदन को जानकारी दी कि उनकी पत्नी द्वारा संचालित की जा रही स्कूल बसों की पुलिस कर्मी चेकिंग कर रहे हैं. इस पर नेता प्रतिपक्ष ने पीठ से मामले पर संज्ञान लेने की मांग की.

नौ घंटे 45 मिनट चला सदन
विधानसभा सत्र की दो दिवसीय कार्यवाही नौ घंटे 45 मिनट तक चली. पहले दिन सत्र चार घंटे 45 मिनट तक चला. दूसरे दिन सत्र की कार्यवाही 5 घंटे 30 मिनट तक चली. विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने बताया कि सत्र में कुल 12 विधेयक पास हुए. एक विधेयक सदन के पटल पर रखा गया. कुल 1090 प्रश्न प्राप्त हुए. अल्प सूचित रूप से स्वीकार 18 प्रश्नों में से चार के उत्तर दिए गए.आतारांकित रूप से स्वीकार 160 में से 33,  तारांकित रूप से स्वीकार 832 उत्तरित 193, विचाराधीन 40  अस्वीकार 40 प्रश्न किए गए.

The post गैरसैंण में हंगामे के बीच विधानसभा सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
गैरसैंण में हंगामे के बीच विधानसभा सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित