पाक के लिए हिंदुस्तान के साथ तनाव

International

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में इस वर्ष पनामा पेपर मामले को लेकर नवाज शरीफ को पीएम पद से हटाए जाने के साथ राजनीतिक दशा गम्भीर बने रहे  साथ ही दूसरी तरफ भारत-पाकिस्तान संबंध  बेकारहो गए दोनों राष्ट्रों के बीच द्विपक्षीय बातचीत नहीं हुई क्योंकि दोनों ने ही इसे प्राथमिकता नहीं दी2016 में पाकिस्तानी आतंकवादी समूहों द्वारा हिंदुस्तान में किए गए हमले  हिंदुस्तान द्वारा पाकके कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल हमले करने के साथ दोनों राष्ट्रों के संबंध बिगड़ गए अप्रैल में इंडियन नागरिक कुलभूषण जाधव को सज़ा-ए-मौत दिए जाने से यह संबंध  बिगड़ गए

विदेश ऑफिस के प्रवक्ता डॉ मौहम्मद फैसल ने दावा किया कि पाक हिंदुस्तान के साथ वार्ता बहाल करना चाहता है लेकिन हिंदुस्तान किसी ना किसी बहाने से इससे भागता रहा है उन्होंने कहा, ‘‘भारत की जिद हमारे बातचीत बहाल ना कर पाने की मुख्य वजह है हिंदुस्तान दोषी है, हम नहीं हम हर वस्तु के बारे में वार्ता के लिए तैयार हैं लेकिन वे आगे नहीं आ रहे  केवल आरोप लगा रहे हैं ’’ संबंध तब  बिगड़ गए जब मई में पाकिस्तानी सेना की विशेष बल टीम नियंत्रण रेखा में 250 मीटर अंदर घुस गयी  दो इंडियन सुरक्षा कर्मियों का सिर काट दिया

भारत ने जवाब में नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तानी चौकियों पर गोलीबारी की जिससे वहां ‘‘कुछ नुकसान’’ हुआ फैसल ने बोला कि 2017 में द्विपक्षीय संबंधों में किसी भी तरह की प्रगति ना होने के लिए पाक को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता क्योंकि उसने संबंधों को सुधारने के लिए लगातार कोशिशें की हैं

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘पहले तो हिंदुस्तान ने वार्ता को आतंकवाद के मुद्दे से जोड़ा लेकिन जब हमने आतंकवाद सहित तमाम मुद्दों पर चर्चा करने की तत्परता दिखायी तो वे (भारत) भाग गए असल में हिंदुस्तान बातचीत की मेज पर आने को तैयार ही नहीं है ’’ प्रवक्ता ने बोला कि इस वर्ष 1,300 से ज्यादा बार प्रयत्न विराम का उल्लंघन होने  उसमें 54 नागरिकों के मारे जाने के बाद विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने अपने इंडियन समकक्ष को एक लेटर लिखकर हिंदुस्तान से नियंत्रण रेखा पर शांति बनाए रखने की अपील की

पूरे वर्ष पाक प्रयत्न विराम के उल्लंघनों को लेकर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए इंडियन राजनयिकों को विदेश ऑफिस तलब करता रहा प्रवक्ता 2018 में वार्ता को लेकर ज्यादा आशान्वित नहीं दिखे बोला कि हिंदुस्तान की मौजूदा गवर्नमेंट के साथ शांति की कोई उम्मीद नहीं है उन्होंने कहा, ‘‘यह चलन 2018 में भी जारी रह सकता है जमीन पर कुछ नहीं बदल रहा ’’ दोनों राष्ट्रों के बीच संयुक्त देश  मानवाधिकार परिषद में भी वाक युद्ध चला, जहां हिंदुस्तान ने पाक को ‘‘अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का चेहरा’’ बताया

अप्रैल में हिंदुस्तान ने पाक सेना की एक न्यायालय में खुफिया सुनवाई के बाद जासूसी के आरोप में जाधव को सज़ा-ए-मौत सुनाए जाने पर कड़ी रिएक्शन दी हिंदुस्तान ने जाधव तक राजनयिक पहुंच देने की मांग की जिसे पाक ने यह कहते हुए बार बार ठुकरा दिया कि जाधव एक इंडियन जासूस हैं

इसके बाद हिंदुस्तान अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट में मामला ले गया जिसने जाधव की सजा की तामील पर रोक लगा दी इस वर्ष करप्शन के आरोपों को लेकर सर्वोच्च कोर्ट द्वारा नवाज शरीफ को पीएम पद के अयोग्य करार देने  सुनवाई प्रारम्भ करने के बाद राष्ट्र में एक बड़े राजनीतिक संकट ने जन्म ले लिया

शरीफ ने अपने करीबी सहयोगी  पीएमएल-एन नेता शाहिद खाकान अब्बासी को अंतरिम पीएमनामांकित किया इस वर्ष को राष्ट्र की सभी प्रांतीय राजधानियों – पेशावर, लाहौर, कराची  क्वेटा – में हुए आतंकवादी हमलों में सैकड़ों लोगों के मारे जाने के लिए भी याद रखा जाएगा

पाकिस्तान ने इस वर्ष पनडुब्बी से प्रक्षेपित किए जाने वाले अपने पहले क्रूज मिसाइल का भी परीक्षण किया जो 450 किलोमीटर की दूरी तक परमाणु आयुध ले जा सकता है पाक ने साथ ही 2,200 किलोमीटर की दूरी तक परमाणु आयुध को ले जाने में सक्षम सतह से सतह पर वार करने वाला  रडार की जद में ना आने वाले बैलिस्टिक मिसाइल का भी परीक्षण किया बैलिस्टिक मिसाइल हिंदुस्तान के कई शहरों तक वार कर सकता है इस वर्ष वरिष्ठ राजनयिक तहमीना जांजुआ पाक की विदेश सचिव बनने वाली पहली महिला बन गयीं उन्होंने ऐजाज अहमद चौधरी की स्थान ली जिन्हें अमेरिका में पाक का राजदूत नियुक्त किया गया

The post पाक के लिए हिंदुस्तान के साथ तनाव appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media
Click link to read original post
पाक के लिए हिंदुस्तान के साथ तनाव