पैसे के अभाव में बीमारी से जंग पराजय गई यह महिला खिलाड़ी

National
पैसे के अभाव में एक  खिलाड़ी जिंदगी से जंग पराजय गया. बनारस की रहने वाली मास्टर्स एथलीट डॉ संगीता मिश्रा आखिरकार बीमारी से जंग लड़ते हुए पराजय गईं. डॉ संगीता की किडनी बेकार हो गई थी.

चिकित्सकों ने उन्हें किडनी ट्रांसप्लांट कराने की सलाह दी थी लेकिन उसके लिए महत्वपूर्ण रकम का बंदोवस्तनहीं हो पाया. प्राथमिक स्कूल में सहायक अध्यापिका डॉ संगीता को डायलिसिस  दवाओं के बंदोवस्त के लिए आखिरी वक्त तक जॉब करनी पड़ी.

आखिरकार रामकृष्ण मिशन अस्पताल में उनका निधन हो गया. मास्टर्स एथलीट डॉ संगीता उदयपुर प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापिका थीं. डा संगीता ने उपचार में मदद के लिए पीएम  मुख्यमंत्री को भी लेटरलिखा था लेकिन कोई सहायता नहीं मिल पाई.

बीएलओ के रूप में ड्यूटी लगने पर जब उन्होंने अपनी बीमारी का हवाला देते हुए अपना नाम हटाने का आग्रह किया लेकिन उनकी इस अर्जी पर भी किसी ने ध्यान नहीं दिया. डॉ संगीता के पति की सालों पहले मृत्यु हो गई थी. इकलौते पुत्र तेजस्वी आनंद के साथ रह रहीं डॉ संगीता साल 2016 से गंभीर रूप से बीमार चल रही थीं.

कहीं से भी नहीं मिली मदद

उनकी बड़ी बहन अग्रसेन पीजी कॉलेज में मनोविज्ञान की प्रोफेसर डॉ संध्या ओझा ने बताया कि पिछले अक्तूबर में तबीयत ज्यादा बेकार होने पर संगीता को महमूरगंज स्थित एक व्यक्तिगत अस्पताल में भर्ती कराया गया.चिकित्सकों ने किडनी बेकार होने की जानकारी दी.

किडनी ट्रांसप्लांट कराने के लिए घरवालों, शुभचिंतकों से जितना बन पड़ा, पैसा इकट्ठा किया लेकिन वह पर्याप्त नहीं था. मदद के लिए पीएमओ  तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लेटर भेजा गया मगर कहीं से कोई मदद नहीं मिली.

बाद में हमने बीजेपी गवर्नमेंट में भी बहुत ज्यादा गुहार लगाई लेकिन कोई सहायता नहीं मिल सकी. संगीता किसी तरह अंत के दिनों तक अपनी ड्यूटी करती रहीं ताकि तनख्वाह से डायलिसिस करा सकें. संगीता की हालत लगातार गम्भीर होती जा रही थी  विभाग ने उनकी ड्यूटी बीएलओ में लगा दी.

एक जनवरी को खुद संगीता अपनी तबियत का हवाला देकर नाम हटवाने के लिए अधिकारियों के पास गई थीं लेकिन वहां किसी ने उनकी बात पर ध्यान नहीं दिया. डा ओझा ने बताया कि संगीता ने अंतरविश्वविद्यालयीय, राज्य स्तरीय  राष्ट्रीय स्तर की एथलेटिक प्रतियोगिता में दर्जनों मेडल अपने नाम किए थे.

The post पैसे के अभाव में बीमारी से जंग पराजय गई यह महिला खिलाड़ी appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal media