‘गुड मॉर्निंग’ संदेशों की वजह से बड़ी संख्या में Smart Phone जाम

Tech

सुबह अपने प्रियजनों को व्हाट्सऐप पर गुड मॉर्निंग मैसेज भेजना-पाना कई के लिए सामान्य है, कई नापसंद होने के बावजूद ये संदेश सह रहे हैं. इनका नुकसान अब सामने आया है, इन ‘गुड मॉर्निंग’ संदेशों की वजह से बड़ी संख्या में Smart Phone जाम हो रहे हैंImage result for ‘गुड मॉर्निंग’ संदेशों की वजह से बड़ी संख्या में Smart Phone जाम

व्हाट्सऐप व विभिन्न वेबसाइट्स के सर्वर ओवरलोड हो रहे हैं. वॉल स्ट्रीट जनरल में मंगलवार को गूगल के शोधकर्ताओं के हवाले से इस बारे में रिपोर्ट प्रकाशित की गई है. अमेरिका में गूगल के इन अध्ययनकर्ताओं ने जानना चाहा था कि हिंदुस्तान में ऐसा क्या हो रहा है कि Smart Phone लगातार जाम हो रहे हैं. यह भी सामने आया कि ये संदेश इतनी मात्रा में भेजे जा रहे हैं कि यहां हर तीन में एक फोन में स्पेस ही समाप्त हो जा रहा है.

रिपोर्ट में बोला गया है 2018 के स्वागत व 2017 की रुखसती के लिए ही अकेले हिंदुस्तानियों ने 2 हजार करोड़ संदेश व्हाट्सऐप से भेज डाले. इतने संदेश संसार में किसी ने नहीं भेजे थे. हिंदुस्तानियों के तेजी से औनलाइन होने के बाद आई इन संदेशों की बाढ़ से यह स्थितियां बनी हैं. खास बात है कि ये संदेश सीधे सादे शब्दों में ही नहीं होते, बल्कि तस्वीरों के साथ होते हैं, या तस्वीरों में ही इन संदेशों को पेस्ट किया हुआ होता है. शब्दों (टेक्स्ट) का साइज कम होता है व तस्वीरों का ज्यादा, इसकी वजह से संदेश हैवी हो जाता है व वॉट्सएप सर्वर ओवरलोड हो जा रहे हैं. नए वर्ष पर कई राष्ट्रों में वॉट्स एप के सर्वर दो दफा इन संदेशों की वजह से क्रैश हो चुके हैं.
आगे पढ़ें
हम गुड मॉर्निंग संदेशों का डीएनए समझना चाह रहे थे : गूगल
गूगल के प्रोडक्ट मैनेजर जोश वुडवर्ड ने बताया कि वे महीनों से इन गुड मॉर्निंग संदेशों का डीएनए समझने का कोशिश कर रहे थे. यह बहुत ज्यादा कठिन कार्य है. बीते पांच साल में केवल ‘गुड मॉर्निंग’ शब्द के साथ भेजे जा रहे संदेश 10 गुना बढ़े हैं. इस तरह की इमेज सर्च करने वालों की संख्या भी 10 गुना बढ़ी. गूगल ने हाल में एक ऐप ‘फाइल्स गो’ लॉन्च किया. इसमें गुड मॉर्निंग संदेशों को डिलीट करने का फंक्शन दिया गया है. जिसके लिए इसे बहुत ज्यादा सराहा गया, एक करोड़ बार इसे डाउनलोड किया गया, अधिकांश डाउनलोड हिंदुस्तान में हुए. गूगल का दावा है कि हर उपभोक्ता ने कम से कम एक जीबी का डाटा अपने फोन से इस ऐप के जरिए हटाया. व्हाट्सऐप ने तो स्टेटस रखने की प्रथा भी प्रारम्भ करवा दी ताकि एक ही बार में यूजर्स अपने फोन में मौजूद सभी कॉन्टेक्ट्स को इस स्टेट्स में संदेश लिखकर पढ़ने का मौका दें.

इसके बावजूद संदेशों में कमी नहीं आई है. गुड मॉर्निंग संदेश भेजने व जवाब पाने का हम में कई हिंदुस्तानियों का चस्का ऐसा है कि खुद पीएम नरेंद्र मोदी भी यह कहने से नहीं चूके कि वे ‘नरेंद्र मोदी एप’ पर गुड मॉर्निंग मैसेज भेजते हैं तो पांच-छह सांसदों के अतिरिक्त बाकी कोई भाजपा सांसद जवाब तक नहीं देता.

यह भी जानिए आंकड़ों में
– संसार में सबसे ज्यादा इंटरनेट डेटा उपयोग इंडियन कर रहे हैं
– 2017 में हर रोज करीब चार करोड़ जीबी डेटा उपयोग रहा था
– व्हाट्सऐप का उपयोग हिंदुस्तान में करीब 20 करोड़ नागरिक कर रहे हैं
– इंटरनेट तक पहुंच करीब 52 करोड़ नागरिकों की, 2021 तक इसके 83 करोड़ होने की उम्मीद
– अभी 80 फीसदी इंटरनेट डेटा मोबाइल फोन पर उपयोग हो रहा
-लंबे समय तक टीवी देखने व कम बिजली खपत करने के लिए कॉर्निया तकनीक
-डॉल्बी डिजिटल प्लस साउंड टेक्नोलॉजी के साथ बेहतर ऑडियो क्वालिटी

The post ‘गुड मॉर्निंग’ संदेशों की वजह से बड़ी संख्या में Smart Phone जाम appeared first on Poorvanchal Media Group.

Source: Purvanchal mEDIA