गोरखपुर:RSS से जुड़ना चाहते है युवा व विद्यार्थी,संघ के सेवा कार्यो में हुआ व्यापक विस्तार…

Viral

गोरखपुर:RSS से जुड़ना चाहते है युवा एवं विद्यार्थी,संघ के सेवा कार्यो में हुआ व्यापक विस्तार…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा इस वर्ष नागपुर में दिनाँक 9-10-11 मार्च , 2018 को सम्पन्न हुई प्रतिनिधि सभा 2018 में संघ कार्य की स्थिति, परमपूजनीय सरसंघचालक जी का प्रवास, मा० सरकार्यवाह जी का प्रवास, संघ के विभिन्न कार्य विभाग का वृत्त प्रस्तुत किया गया साथ ही विभिन्न प्रान्तों में विविध प्रकार के कार्यक्रमों का वृत्त निवेदन किया गया। देश में संघ शाखा स्थान, शाखा साप्ताहिक मिलन, संघ मण्डली, कुल वर्ग, शाखा प्रतिनिधित्व संख्या सभी दृष्टि से संघ कार्य निरन्तर बढ़ रहा है। संघ देश के महत्वपूर्ण विषय को ले कर प्रस्ताव पारित करती है और सरकार, समाज, संगठन तथा व्यक्तियों से आवाहन करती है इस महत्वपूर्ण कार्य को सम्पन्न करें। इस प्रतिनिधि सभा में “ भारतीय भाषाओं का संरक्षण व संवर्धन की आवश्यकता” विषय पर प्रस्ताव पारित किया गया (जो संलग्न है)।
गोरक्ष प्रान्त में 5 विभाग, 16 जिले एवं 02 महानगरीय जिले हैं। महानगरीय जिलों में 19 नगर में 175 बस्तियाँ तथा शेष 16 जिलों में कुल 147 खण्ड, 1520 मण्डल एवं 36 नगरों में कुल 202 बस्तियाँ हैं। वर्तमान में 175 बस्तियों में 144 बस्तियों तथा शेष 31 बस्तियों में मिलन मण्डली का कार्य चल रहा है। महानगर में कुल 170 शाखा है। 16 जिलों के 36 नगर शाखा युक्त तथा 151 बस्तियाँ शाखा युक्त हैं। प्रान्त के ग्रामीण क्षेत्रों में 147 खण्डों में 144 खण्ड शाखा युक्त, 907 मण्डल शाखा युक्त तथा 332 मण्डल में मिलन मण्डली के माध्यम से कार्य हो रहा है।
संघ के सेवा कार्यों का व्यापक विस्तार हुआ है देश के सभी सेवा बस्तियों में संघ कार्य के नित्य नूतन कार्य हो रहे हैं। गोरक्ष प्रान्त में 275 सेवा बस्तियाँ हैं जिसमें 145 शाखा युक्त हैं शेष में दूसरे प्रकार के कार्य जैसे सचल चिकित्सालय, बाल संस्कार केन्द्र, कटाईं बुनाई केन्द्र आदि चल रहे हैं।

कार्य विस्तार एवं दृढ़ीकरण के लिए स्वयंसेवकों का निरन्तर प्रशिक्षण कार्य चलता रहता है। संघ के शिक्षा वर्गों की संख्या एवं स्वयंसेवकों की संख्या में निरन्तर वृद्धि हो रही है। युवकों में संघ के प्रति रुझान बढ़े हैं वे सभी संघ से जुड़ कर राष्ट्र के लिए कुछ करना चाहते हैं। प्रान्त के सभी पाँच विभागों में महाविद्यालयीन विद्यार्थियों का शिविर आयोजित किया गया है। जिसमें 400 से अधिक संख्या में विद्यार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया है। साथ ही प्रत्येक जिलों में बाल शिविरों का भी आयोजन किया गया है। हमारे सभी कामों तथा परिवार ही समाज की धुरी है कुटुम्ब प्रबोधन की गतिविधि की दृष्टि से नव दम्पत्ति सम्मेलन, व्याख्यान तथा संगोष्ठी प्रान्त में सम्पन्न हुई।
संघ के कार्य में प्रत्यक्ष रूप से आने वाले बन्धुओं के बीच संघ के संपर्क विभाग की योजना से संघ साहित्य लेकर प्रबुद्ध जनों से संपर्क किया गया। शाखाएं नए- नए कार्यो को करते हुए उपक्रमशील बनती है इस दृष्टि से 287 शाखाओं ने वार्षिक उत्सव मनाया साथ ही एक सप्ताह को सेवा सप्ताह के रूप में मनाने का संकल्प किया जिसके अंतर्गत बौद्धिक संपर्क, सामाजिक समरसता, स्वच्छता, पर्यावरण, चिकित्सा एवं संकल्प सात दिनों में सम्पन्न किया।
भविष्यकालीन कार्यकर्ताओं के विकास की दृष्टि से प्रान्त में भविष्यकालीन कार्यकर्ता वर्ग सम्पन्न हुआ।
देश स्तर पर चल रहे रचनात्मक एवं साकारात्मक संघ के कार्यों से प्रेरित होकर नये – नये लोग संघ से जुड़ना चाहते हैं विशेष रूप से युवा एवं विद्यार्थियों ने इसमें विशेष रुचि दिखाई है। संघ की अधिकृत वेब साइट पर जॉइन आर.एस.एस के माध्यम से 2017 में लगभग 2,000 बन्धु संघ से जुड़े हैं और जिसमें से बहुत से बन्धु प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से संघ कार्य में लग गए हैं। शाखाओं के माध्यम से समाज में कुछ परिवर्तन दिखे इसके लिए ग्राम विकास कार्यों का पूरे प्रान्त में निरन्तर कार्य चल रहा है।
उक्त बातें मा० प्रान्त संघचालक पृथ्वीराज सिंह एवं प्रान्त कार्यवाह प्रो० संजीत कुमार गुप्त ने विश्व संवाद केन्द्र, कचहरी बस स्टैण्ड पर आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कही।

Source: Gorakhpur times