National

जनहित याचिकाओं पर सुनवाई आज

नई दिल्‍ली . मुस्लिमों में प्रचलित बहुविवाह  निकाह हलाला को चुनौती देने वाली जनहित याचिकाओं पर सोमवार को सुप्रीम न्यायालय में सुनवाई होगी.

Image result for निकाह हलाला मामले में जनहित याचिकाओं पर सुनवाई आज

‘निकाह हलाला’ का मतलब

जिस आदमी ने तलाक दिया है उसी से दोबारा विवाह करने के लिए महिला को पहले किसी अन्य आदमी से विवाह करनी होती है  तलाक लेना होता है. उसके बाद ही दोबारा पूर्व पति से विवाह हो सकती है. इस प्रक्रिया को निकाह हलाला कहते हैं. वहीं बहुविवाह एक ही समय में एक से अधिक पत्नी रखने की प्रथा है. इसे न्यायालय मे चुनौती दी गई है.

असंवैधानिक करार दिया जाए ‘निकाह हलाला’

इससे पहले बीजेपी नेता  एडवोकेट अश्विनी उपाध्याय  तीन तलाक केस में याचिकाकर्ता सायरा बानो ने 5 मार्च को एक जनहित याचिका दायर की थी जिसमें बहुविवाह  हलाला को असंवैधानिक करार देने की मांग की थी. इसके अलावा, जनहित याचिका में इंडियन दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 375 के तहत ‘निकाह हलाला’ को बलात्कार,  बहुविवाह को आईपीसी की धारा 494  498 के तहत क्राइम घोषित कर असंवैधानिक करार दिया जाए.

सुप्रीम न्यायालय ने नफीसा खान द्वारा बहुविवाह  निकाह हलाला को असंवैधानिक करार दिए जाने की मांग को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई की मांग को स्वीकार कर लिया है. इस मामले में सुप्रीम न्यायालय आज सुनवाई करेगा. दिल्ली की रहने वाली नफीसा खान द्वारा दायर याचिका में बोला गया है कि मुस्लिम व्यक्तिगत लॉ (शरीयत) के अधिनियम 1937 की धारा 2 को संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 21  25 का उल्लंघन करने वाला घोषित करते हुए असंवैधानिक करार दिया जाए.

Source: Purvanchal media