इस शुभ मुहूर्त में करें हनुमान जी की आराधना, पूरी होगी हर कामना

National

जयपुर:श्री राम के सबसे बड़े भक्त पवनपुत्र हनुमान को समर्पित है। चैत्र शुक्ल पूर्णिमा के दिन हनुमान ने शिव के 11 अवतार के रूप में इस धरती पर जन्म लिया था।हनुमान जयंती स माह 31 मार्च (शनिवार) को पड़ रहा है। संकट मोचन हनुमान जी की आराधना सप्ताह के प्रत्येक मंगलवार को की जाती है। ऐसे बहुत सारे भक्त हैं जो अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए मंगलवार के दिन हनुमान जी का व्रत रखते हैं।  ऐसी मान्यता है कि कलियुग में हनुमान जी की आराधन सर्वोपरि है। हनुमान जी को सबसे जल्द प्रसन्न होने वाले देवता माना जाता है। हनुमान जयंती साल में दो बार मानाने की परंपरा है। हनुमान जी का पहला जन्मदिन चैत्र शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मनाया जाता है। साथ ही हनुमान जी का दूसरा जन्मदिन कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है।

हनुमान जयंती 30 मार्च, 2018 को शाम 7 बजकर 35 मिनट 30 सेकेंड से 31 मार्च, 2018 शाम 6 बजकर 6 मिनट 40 सेकेंड तक रहेगी। ऐसा मन जाता है कि हनुमान जयंती के अवसर पर रात्रि के समय हनुमान की पूजा अत्यंत फलदायी होती है। इतना ही नहीं इस समय में हनुमत आराधना से हनुमान जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।
एक चौकी, एक लाल कपड़ा, हनुमान जी की मूर्ति या फोटो, एक कप अक्षत (बिना टूटे अरवा चावल), कुछ तुलसी की पत्तियां, एक धूप, घी से भरा एक दीया, कुछ ताजे फूल, चंदन या रोली, गंगाजल, नैवेद्य (गुड और भुने चने) ।

सभी पूजन सामग्री को पूजाघर में एकत्र कर लें। इसके बाद एक चौकी पर अच्छी तरह से लाल कपड़ा बिछा दें। चौकी पर हनुमान जी की मूर्ति या फोटो लगाएं। ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी पूजा भगवान गणेश को सर्वप्रथम नमन किए बिना पूरी नहीं होती है। दीया और धूप जलाएं। भगवान गणेश की दीए और धूप से पूजा करें। हनुमान जी से प्रार्थना करें और उनका आह्वान करें।

Source: Newstrak hindi