माँ की ममता ने मुझे इस कदर रुला दिया कि अपने सारे ग़मों….

International

(चारू खरे)

मां

माँ की ममता ने मुझे इस कदर रुला दिया

कि अपने सारे ग़मों को मैंने दिल से भुला दिया

ममता के उस रूप को देखकर आज मुझे भी हैरानी हो गई

मेरी माँ ने मुझे इतना प्यार दिया कि मैं थोड़ी शैतान सी हो गई

मेरी आँखों से आंसू न कभी उसने गिरने दिया

मेरे जख्मों को उसने हमेशा मरहम दिया

माँ ने मुझे हमेशा सहारा दिया

जहां से मैं कही न भटकूं ऐसा किनारा दिया

माँ हमेशा मेरी चादर को साफ़ कर मुझे उसपर सुलाती रही

मेरे लिए रातों को जागकर अपनी नींद भुलाती रही

इस समाज मे बढ़ते हुए जुर्म को देखकर एक माँ अपनी बेटी को लगातार यही समझती रही

कि बेटा ध्यान रखना अपना पूरा  करना हर  सपना अपना

बेटा थोड़ा संभल कर चलना

जब लगे तुम हो गिरने वाली तो बस आँखें बंद कर मुझे  याद करना

मैं हर काम छोड़ तुम्हारे पास चली आउंगी  तुम्हारे लिए तो मैं पूरी दुनिया से  लड़ जाउंगी

माँ भी कितनी नादान होती है वो तो  अपने बच्चों की जान होती है

बचपन मे है लोरी सुनाती

थोड़ा बड़ा होने पर चलना सिखाती

गिर जाने पर हमें संभालती

उठ जाओ! देखो चीटी मर गयी ये कहकर हमारा मन है बहलाती

निःस्वार्थ अनमोल रिश्ता होता है ये बड़ा

हर रिश्ते है फीके पड़ जाते इसके सामने

क्योंकि हर कठिनाइयों पर उतरता है ये खरा

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Source: Hindi Newstrack