आज होगा हाई न्यायालय का निर्णय

National

2002 के नरोदा पाटिया नरसंहार में केस में स्पेशल न्यायालय ने भाजपा विधायक माया कोडनानी बाबू बजरंगी समेत 32 को दोषी ठहराया था आज इस केस का निर्णय गुजरात न्यायालय से आना हैमामला 16 बरस पहल का है जब 28 फरवरी 2002 को अहमदाबाद के नरोदा पाटिया में भीषण नरसंहार किया गया और 27 फरवरी 2002 को गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस की बोगियां जलाई गई  इन लपटों में पूरा गुजरात जला था नरोदा पाटिया में हुए दंगे में 97 लोगों की मर्डर कर दी गई थीइसमें 33 लोग जख्मी भी हुए थे

Image result for गुजरात दंगे पर हाई न्यायालय

नरोदा पाटिया नरसंहार को जहां गुजरात दंगे के दौरान हुआ सबसे भीषण नरसंहार है वही यह मामला विवादास्पद भी है ये गुजरात दंगों से जुड़े नौ मामलों में एक है, जिनकी जांच एसआईटी ने की थी नरोदा पाटिया दंगे के बारे में एसआईटी ने न्यायालय से बोला था कि घटना वाली प्रातः कालविधानसभा में शोक सभा में शामिल होने के बाद साढ़े नौ बजे माया कोडनानी इलाके में गई थीं वहां उन्होंने लोगों को अल्पसंख्यकों पर हमले के लिए उकसाय़ा था एसआईटी के मुताबिक माया कोडनानी जब वहां से चली गईं तो इसके बाद लोग दंगे पर उतर आए हालांकि, स्पेशल न्यायालय के निर्णय को कोडनानी के एडवोकेट ने ये कहते हुए चुनौती दी है कि उनके विरूद्ध सबूत पर्याप्त नहीं हैं

नरोदा पाटिया कांड का मुकदमा अगस्त 2009 में प्रारम्भ हुआ था कुल 62 आरोपी बनाए गए थेसुनवाई के दौरान एक अभियुक्त विजय शेट्टी की मौत हो गई थी इस मामले में पिछले वर्ष विशेष न्यायालय ने गुजरात की पूर्व मंत्री माया कोडनानी  बजरंग दल के नेता बाबू बजरंगी समेत 32 लोगों को दोषी करार दिया था, जबकि 29 अन्य लोगों को बरी कर दिया दोषी ठहराए गए 32 लोगों की अर्जी पर ही आज गुजरात न्यायालय निर्णय सुनाने वाला है इसमें माया कोडनानी को आजीवन कारावास  बाबू बजरंगी को जिंदगी की आखिरी सांस तक कारावास की सजा सुनाई गई थी

गौरतलब है कि गुजरात में 2002 में गोधरा रेलवे स्टेशन पर साबरमती ट्रेन के डिब्बे में हुई कार सेवकों की मौत के बाद पूरे गुजरात में फैले दंगों के दौरान, 28 फरवरी, 2002 को नरोदा पाटिया में हमला हुआ था, जिसमें 97 लोगों की मौत हो गई थी

The post आज होगा हाई न्यायालय का निर्णय appeared first on Poorvanchal Media | Purvanchal News | UP News | Hindi Khabare |.

Source: Purvanchal media