फिर उठी किसान आयोग के गठन की मांग, मोदी- योगी की सरकार को किसानों की चेतावनी

National

लखनऊ: किसानों के हितों की रक्षा के लिए एक बार फिर किसान आयोग के गठन की मांग ने जोर पकड़ा है। सैंकडों की संख्‍या में किसान अधिवेशन में शनिवार को शिरकत करने नवाबी नगरी पहुंचे किसानों ने एक साथ इस आयोग की मांग को दोहराया। इस किसान अधिवेशन में किसानों की समस्‍याओं पर चर्चा करते हुए किसान नेताओं ने मोदी – योगी की सरकार को चेतावनी तक दे डाली। किसानों ने सरकार के खिलाफ हुंकार भरी और याद दिलाया कि अगर किसान हित में सरकार ने काम नहीं किए तो सत्‍ता परिवर्तन में किसान अहम भूमिका निभाएंगे।

यह भी पढ़ें …..गड़बड़झाला: कर्जदार किसानों के साथ बैंकों का बड़ा खेल, फंस गए 10 लाख गरीब किसान

किसानों की पेंशन की हुई डिमांड
राष्‍ट्रीय किसान मंच के बैनर तले हुए किसान अधिवेशन में राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष शेखर दीक्षित ने कहा कि आज किसान आत्‍महत्‍या करने को मजबूर है। अगर अन्‍नदाता ही आत्‍महत्‍या कर लेंगे तो देश वासियों के लिए अन्‍न कौन पैदा करेगा। ऐसे में किसानों को अपने अधिकारों की रक्षा के लिए डिसीजन मेकिंग प्रक्रिया का हिस्‍सा बनाया जाना चाहिए। इसके लिए किसान आयोग बहुत जरूरी है। इसके साथ ही साथ किसानों के काम करने की उम्र सीमा का निर्धारण होना चाहिए। तय उम्र सीमा के बाद किसानों को भी पेंशन व्‍यवस्‍था का लाभ मिलना चाहिए।

यह भी पढ़ें …..चीनी मिलों पर बरस रही लक्ष्मी किसानों को भुगतान नहीं

किसान हल छोड़कर उठा सकता है हथियार
किसान अधिवेशन में मध्‍य प्रदेश के किसान नेता वेदव्रत वाजपेई ने कहा कि जब बडे बडे बिजनेसमैन के लिए सिंगल विंडो सिस्‍टम बन सकता है, तो देश के किसानों के लिए भी सिंगल विंडो सिसटम बनना चाहिए। भूमि अधिग्रहण, बिजली कनेक्‍शन से लेकर फसलों की सही कीमत और आवश्‍यक जानकारी के लिए ऐसी प्रणाली को विकसित किया जाना चाहिए।अगर ऐसा नहीं हूआ तो कहीं ऐसा न हो कि शोषित किसान हल छोडकर हथियार उठा ले।

The post फिर उठी किसान आयोग के गठन की मांग, मोदी- योगी की सरकार को किसानों की चेतावनी appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack