योगी के ‘दलित भोज’ पर भड़कीं मायावती, कहा- सवर्णों के घर से आता है इनका खाना

National

लखनऊ: प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के दलित के घर खाना खाने पर मंगलवार (24 अप्रैल) को बसपा सुप्रीमो मायावती भड़क गईं। यूपी की पूर्व सीएम ने इसे नाटकबाजी बताया। मायावती ने योगी के दलित भोज को दिखावा बताया। बोलीं, ‘ऐसा कर बीजेपी दलितों को धोखा दे रही है। क्योंकि बीजेपी दलित विरोधी पार्टी है।’

मायावती ने कहा, ‘अब देश की जनता के सावधान होने का समय है। दलित समाज इन पार्टियों के बहकावे में न आएं।’ इस दौरान कांग्रेस पति भी मायावती के निशाने पर रही। बसपा सुप्रीमो ने कहा, ‘दलितों के घर खाने का काम पहले कांग्रेस के लोग किया करते थे, लेकिन अब बीजेपी उसी रस्ते पर चलने लगी है। बीजेपी-कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं।’

दलितों का राजनीतिक इस्तेमाल हो रहा
मायावती ने कहा, ‘देश में दलित उत्पीड़न चरम पर है। जनता अब बहकावे में आने वाली नहीं है। बीजेपी ने भी कांग्रेस की ही तरह दलितों के घर जाकर खाने का नाटक शुरू किया है। ये पार्टियां दलितों का राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है।’

घर दलित का, भोजन सवर्ण का
मायावती ने कहा, पहले कांग्रेस पार्टी के नेतागण दलितों के घर-घर जाकर उनकी मुफ्त की रोटी तोड़ा करते थे और उसका ढिंढोरा भी पीटते रहते थे, परन्तु अब बीजेपी के नेतागण भी उन्हीं के पद्चिन्हों पर चलकर दलितों के घर जाकर उनके साथ खाना खाने की नाटकबाज़ी कर उस बेचारे दलित का आंटा गीला करने का काम कर रहे हैं। ऐसा लोगों का मानना है। जबकि वास्तविकता यह है कि नाम के लिए घर केवल दलित का होता है, लेकिन खाना आदि सभी गैर-दलित वर्ग के अर्थात उच्च वर्ग के घरों से ही तैयार होकर आता है। कुल मिलाकर दलितों, आदिवासियों, अन्य पिछड़े वर्गों व अपरकास्ट के ग़रीबों आदि को देश में कहीं भी रोटी-रोजी व रोजगार तो दे नहीं रहे हैं, परन्तु उनका राजनीतिक इस्तेमाल व शोषण करने में बीजेपी के शीर्ष नेतागण सभी हदें पार करते हुए नज़र आते हैं।

 

The post योगी के ‘दलित भोज’ पर भड़कीं मायावती, कहा- सवर्णों के घर से आता है इनका खाना appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack