कुशीनगर हादसा:क्या मर गई थी डॉक्टरों की मानवता व संवेदना!!पोस्टमार्टम के बाद खुला छोड़ दिया मृतक बच्चो का शव,सामने आई स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही…..

Uncategorized

कुशीनगर हादसे में 13 बच्चो की मौत से जहा आरटीओ,रेल विभाग व स्कूल प्रबंधन की लापरवाही सामने आई वही पोस्टमार्टम के दौरान स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही भी सामने आई है।।हादसे के शिकार हुए बच्चो के पोस्टमार्टम के बाद उनके शव को बिना सिले ही छोड़ दिया गया और कपड़े में लपेट परिजनों को सौप दिया गया।।इससे स्वास्थ्य विभाग की मर गई मानवता व संवेदनहीनता साफ दिखती है।।मानवता को शर्मशार करते हुए डॉक्टरों ने पोस्टमार्टम के बाद बच्चो के शव को बिना सिले छोड़ दिया जिससे बच्चो के शरीर का अंग बाहर आ गया था।।इसका पता तब चला जब हादसे के शिकार हुए हैदर के पुत्र फरहान व कामरान को नहलाने के लिए शव को खोला गया तो देखा गया कि पोस्टमार्टम के बाद सर व पेट को सिला ही नही था।।जिसके बाद बिना नहलाए ही बच्चो के शव को दफनाया दिया गया।।

गोरखपुर टाइम्स के पास पोस्टमार्टम के बाद डॉक्टरों की इस संवेदनहीनता का फ़ोटो व वीडियो मौजूद है।मामला सामने आने के बाद डीएम ने जांच के आदेश दे दिए है पर प्रश्न यह उठता है कि आखिर स्वास्थ्य विभाग इतनी बड़ी लापरवाही कर कैसे सकता है??क्या इसके जिम्मेदार दोषियों को भी सजा मिलेगी जो बच्चो के शव के साथ ऐसी संवेदनहीनता किये है?? क्या भगवान के दूसरे रूप कहे जाने वाले डॉक्टरों की मानवता पोस्टमार्टम के वक्त मर गई थी??

Source: Gorakhpur times