वर्ल्ड ‘प्रेस’ फ्रीडम डे : ये हैं वो जर्नलिस्ट, जो कहते थे–‘इंदिरा क्लर्क के लायक भी नहीं’

National

लखनऊ : विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस’ पर मैं खुशवंत सिंह को याद कर रहा हूं पर, उन्हें ही क्यों ? इसलिए कि वे आपने पाठकों की भी स्वतंत्रता के प्रबल पक्षधर थे। जब वे ‘इलेस्ट्रेटेड वीकली ऑफ़ इंडिया के संपादक थे तो उन्होंने अपने पाठकों की उन चिट्ठियों को भी छापा जिनमें उन्हें खुशमद सिंह, संजय गांधी के चमचा और न जाने क्या -क्या लिखा रहता था।

2005 में खुशवंत सिंह ने ‘आउटलुक’ को दिए गए इंटरव्यू में कहा भी था कि ‘ संजय गांधी के कहने पर मैं दोबारा संपादक बना था।’ सरदार जी 1969 से 1977 तक इलेस्ट्रेटेड विकली ऑफ इंडिया के संपादक थे। बाद में वे ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ के संपादक बने।

Image result for khushwant singh

इंदिरा गांधी के एक बार फिर 1980 में सत्ता में आ जाने के बाद संजय गांधी ने खुशवंत सिंह को कुछ ऑफर दिए।

खुशवंत सिंह के अनुसार, संजय ने कहा ‘आप ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त या दुनिया में कहीं के राजदूत बनना चाहते हों या फिर राज्य सभा के सदस्य और हिंदुस्तान टाइम्स के संपादक ।’खुशवंत जी ने कहा कि मुझे बाद वाला प्रस्ताव बेहतर लगा।

ये भी पढ़ें – इन PHOTOS को देखकर आप भी बोलेंगे–‘सचमुच बेहद जुगाड़ू है इंडिया’

खुशवंत ने कहा कि एक दो बार प्रधानमंत्री@इंदिरा गांधी@के दफ्तर से संदेश आया कि मैं ऐसा करूं या ऐसा न करूं, लेकिन मैंने उसकी परवाह नहीं की।

इंदिरा जी के बारे में उन्होंने लिखा कि इंदिरा मुझे पसंद करने लगी थीं।क्योंकि मैं संजय का समर्थन कर रहा था।दरअसल संजय पर गलत आरोप लगा कर आक्रमण किए जा रहे थे। मैं सभी आरोपों की तह में गया,उन्हें गलत पाया।

यानी खुशवंत सिंह अपनी शर्तों पर काम करते थे। अब वे इस दुनिया में नहीं हैं।पर अनेक लोग यह मानते हैं कि वे एक अत्यंत योग्य लेखक व पत्रकार थे।

Image result for khushwant singh

हालांकि उन्हें पत्रकार रहना अधिक पसंद था। वे उन कुछ लोगों के कथन से असहमत थे कि ‘पत्रकारिता साहित्य की हरामी औलाद है।’

वे कहते थे कि आज मेरी जो प्रसिद्धि है,वह पत्रकारिता के कारण है। यूनेस्को की अपनी नौकरी छोड़कर लेखक पत्रकार के अनजाने से पेशे में खुशवंत सिंह आ गए थे।पर वीकली के संपादक के रूप में उन्होंने कमाल किया था।

ये भी पढ़ें – यहां एक नहीं, दो शादी करने की है परंपरा,कहीं और नहीं अपने ही देश की है सच्चाई

इंदिरा गांधी जब प्रधानमंत्री बनीं तो न्यूयार्क टाइम्स ने उन पर लिखने के लिए कहा था। सरदार जी ने लिखा कि इंदिरा गांधी सरकार में एक क्लर्क का काम करने लायक भी नहीं हैं क्योंकि वह मैट्रिक पास भी नहीं हैं।

संपादकों के बारे में खुशवंत ने कहा था कि ‘संपादक जो सबसे बड़ी गलती करते हैं,

 

The post वर्ल्ड ‘प्रेस’ फ्रीडम डे : ये हैं वो जर्नलिस्ट, जो कहते थे–‘इंदिरा क्लर्क के लायक भी नहीं’ appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack