नगद की कमी सिर्फ एक महीने की, जल्द ही कैश और सिक्कों की होगी बहुलता

National

लखनऊ: कैश की कमी और सिक्कों की बहुलता से उत्पन्न हुई समस्या का समाधान एक से डेढ़ माह में निकाल लिया जाएगा। कैश समस्या की मुख्य वजह दो हजार के नोटों की वापसी न होना है।

आरबीआइ की ओर से जारी दो हजार रुपये के 25 फीसद नोट ही बैंक से लेकर बाजार तक दिख रहे हैं, जबकि 75 फीसद डंप हैं। यह जानकारी आरबीआइ के लखनऊ कार्यालय के महाप्रबंधक पंकज कुमार ने दी।

चीफजस्टिस के खिलाफ महाभियोग लाने वाली कांग्रेस ने बोला उन्हें थैंक्यू

आरबीआइ के महाप्रबंधक ने शनिवार को बैंक अधिकारियों के साथ मीटिंग की । मीटिंग में सात बड़े बैंकों के डीजीएम, एजीएम व 11 जिलों के करेंसी चेस्ट आफिसर शामिल थे। बैंक अधिकारियों द्वारा अपनी समस्या रखने के बाद महाप्रबंधक आरबीआइ ने कहा कि 1000 व 500 के पुराने नोट का अब डिस्पोजल हो चुका है। शीघ्र ही कटे-फटे नोट व सिक्के मंगा लिये जाएंगे, इसमें एक से डेढ़ माह का समय लगेगा और कैश की भरपूर व्यवस्था की जाएगी।

पाकिस्तान : पीसीबी ने हफीज को कारण बताओ नोटिस जारी किया

उन्होंने सुझाव दिया कि हर जिले में कैश प्रबंधन के लिए सभी बैंक मिलकर एक बैंक को नोडल नामित कर लें और उसी के माध्यम से आरबीआइ को कैश की डिमांड भेजें, वह नोडल बैंक बताए कि इस जिले में कितने कैश की जरूरत है। इससे आरबीआइ को भी सहूलियत होगी और सभी बैंकों को अलग-अलग कैश की डिमांड नहीं करनी पड़ेगी।

The post नगद की कमी सिर्फ एक महीने की, जल्द ही कैश और सिक्कों की होगी बहुलता appeared first on NewsTrack.

Source: Hindi Newstrack