Tech

सोशल मीडिया ट्रोलर्स पर होगा एक्शन

वैज्ञानिकों ने एक नयी तकनीक विकसित की है जिससे सोशल मीडिया पर किसी पर का पता चल सकता है यह तकनीक साइबर दबंगई का शिकार बने बच्चों के अभिभावकों या नेटवर्क ऐडमिनिस्ट्रेटर को इसके बारे में सचेत भी करेगी अमेरिका की युनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर के वैज्ञानिकों ने साइबर दबंगई का पता लगा ने वाली अन्य तकनीकों के मुकाबले इस तकनीक में पांच गुणा कम गणन संसाधनों का उपयोग किया है इन अनुसंधानकर्ताओं में एक इंडियन मूल का वैज्ञानिक भी शामिल है

Image result for सोशल मीडिया ट्रोलर्स पर होगा एक्शन

यूसी बोल्डर के प्रोफेसर रिचर्ड हैन ने बताया कि यह तकनीक प्रभावी है  थोड़े से निवेश से इसके माध्यम से इंस्टाग्राम के आकार के किसी नेटवर्क की निगरानी की जा सकती है वैज्ञानिकों के इस समूह ने एक मुफ्त ऐंडूायड ऐप्प ‘बुलीएलर्ट’ भी जारी किया इसके माध्यम से इंस्टाग्राम पर साइबर- दबंगई की किसी घटना पर पीड़ित के अभिभावकों को उसका एलर्ट मिल जाता है

अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि यह ऐप्प साइबर दबंगई की अभिभावकों की परिभाषा के अनुरूप खुद को ढालने में सक्षम है यूसी बोल्डर के एक प्रोफेसर शिवकांत मिश्र ने कहा, ‘‘इस तरह का कोई ऐप्प बहुमूल्य है जो हमें बताता है कि कुछ दिक्कत-तलब चीजें हो रही हैं

सोशल मीडिया के प्रयोग से नौजवानों के संबंधों पर असर, स्टडी में खुलासा
एक अध्ययन के अनुसार सोशल मीडिया किशोरों के असली ज़िंदगी  उनके संबंधों को प्रभावित कर सकता हैं अमेरिका में केलिफोर्निया विश्वविद्यालय,इरविन के शोधकर्ताओं के अनुसार सोशल मीडिया से किशोरों का ज़िंदगी प्रभावित होने की संभावना है जर्नल नेचर में यह शोध प्रकाशित हुआ है प्रोफेसर कैंडिस ओडगर्स ने विभिन्न मौजूदा अध्ययनों के आकडों का विश्लेषण किया ओडगर्स ने बोला कि प्रमाणों से अब तक यह पता चला है कि Smart Phone पहले से ही किशोरों की समस्याओं को दर्शाते दर्पण के रूप में कार्य कर सकते हैं

उन्होंने कहा, निम्न आय वर्ग के परिवारों का कहना है कि सोशल मीडिया का असर असली ज़िंदगी में बढता जा रहा है  इसके कारण ऑफलाइन होने पर  झगड़े होते है तथा स्कूलों में समस्याएं सामने आती है शोधकर्ताओं का कहना है कि ओडगर्स द्वारा अन्य अध्ययनों की समीक्षा की गई जिनसे पता चलता है कि आर्थिक रूप से निर्बल परिवारों के किशोरों के लिए सोशल मीडिया से जुड़ी समस्याओं से निपटने में अभिभावकों, स्कूलों या अन्य सामाजिक संगठनों से अलावा समर्थन की आवश्यकता है

मानसिक सेहत पर प्रभाव 
सोशल मीडिया का अत्यधिक प्रयोग युवाओं के मानसिक सेहत को प्रभावित कर रहा है विशेषज्ञों का कहना है कि कई युवाओं में ‘असामान्य’ व्यवहार  जीवनशैली संबंधी परिवर्तन देखे गए हैं जिनके कारण उनकी एजुकेशन  पर्सनल संबंधों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा है दिल्ली के शीर्ष के सेहत संस्थानों के मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि चिंता की बड़ी बात यह है कि ज्यादातर मामलों में लोगों को यह पता भी नहीं है वे इस समस्या से पीड़ित हैं

फेसबुक तथा ट्वीटर जैसे प्लेटफॉर्म दोधारी तलवार साबित हो रहे हैं
दक्षिण दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में वरिष्ठ मनोवैज्ञानिक डॉ संदीप वोहरा ने बताया, ‘सोशल मीडिया  फेसबुक तथा ट्वीटर जैसे प्लेटफॉर्म दोधारी तलवार साबित हो रहे हैं या तो ज्यादातर युवाओं का इन पर शोषण होता है या फिर उन्हें इसकी लत लग जाती है दोनों ही मामलों में मनोवैज्ञानिक समस्याएं होती हैं ’ वोहरा ने बताया कि अस्पताल में हर सप्ताह ऐसे 80 से 100 मरीज आते हैं जिनमें इंटरनेट की लत के कारण उत्पन्न हुए विकार के मरीज भी हेते हैं

सर गंगाराम अस्पताल की बाल एवं किशोर मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञ डॉ रोमा कुमार कहती हैं कि सोशल मीडिया का अत्यधिक प्रयोग करने वाले युवा ‘अपने ज़िंदगी का नियंत्रण अन्य लोगों के हाथों में दे देते हैं ’ कल विश्व मानसिक सेहत दिवस मनाया जाएगा एम्स के मनोविज्ञान विभाग में प्राध्यापक डॉ राजेश सागर के मुताबिक सोशल मीडिया के विवेकपूर्ण प्रयोग का प्रशिक्षण स्कूल स्तर पर ही दिया जाना चाहिए

The post सोशल मीडिया ट्रोलर्स पर होगा एक्शन appeared first on Poorvanchal Media | Breaking Hindi News| Current Hindi News| Latest Hindi News | National Hindi News | Hindi News Papers | Hindi News paper| Hindi News Website| Indian News Portal – Poorvanchalmedia.com.

Source: Purvanchal mEDIA

Samvadata
Samvadata.com is the multi sources news platform.
http://Samvadata.com