दिल्लीवासी पांच गुना अधिक ब्लैक कार्बन की जद में

International

एक नए रिसर्च में पता चला है कि दिल्ली में कार से यात्रा करने वाले यूरोप  अमेरिका की तुलना में पांच गुना अधिक ब्लैक कार्बन की जद में आते हैं. विश्व सेहत संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार एशिया में कम आय तथा मध्य आय वाले राष्ट्रों में समय पूर्व मौतों के 88 फीसदी मामलों के लिए वायु प्रदूषण को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. इसमें बोला गया है कि बीजिंग में साल 2000 में वाहनों की संख्या 15 लाख थी जो 2014 में बढ़ कर 50 लाख से अधिक हो गई वहीं, दिल्ली में 2010 में वाहनों की संख्या 47 लाख थी जिसके 2030 में दो करोड़ 56 लाख पर पहुंचने का अनुमान है.

एटमॉस्फियरिक इन्वायरमेंट जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक शोधकर्ताओं ने एशियाई परिवहन माध्यमों (पैदल चलने, कार चलाने, मोटसाइकिल चलाने तथा बस में यात्रा) में सघनता के स्तरों तथा प्रदूषण के खतरे का अध्ययन किया. इस अध्ययन में सामने आया कि एशियाई राष्ट्रों में भीड़ भाड़ वाली सड़कों पर पैदल चलने वाले लोग यूरोप  अमेरिकी राष्ट्रों के लोगों की तुलना में 1.6 गुना अधिक महीन कणों की जद में होते हैं. वहीं एशिया में कार चलाने वाले यूरोप  अमेरिका के लोगों की तुलना में नौ गुना अधिक प्रदूषण की जद में होते हैं.

सूर्रे विश्विद्यालय के ग्लोबल सेंटर फॉर क्लीन एयर रिसर्च के निदेशक प्रशांत कुमार ने बोला कि शोध के एरिया में खतरे के जद में आने की उपलब्ध सूचनाओं के बीच तुलना करने में सावधानी बरतनी पड़ेगी क्योंकि विभिन्न अध्ययनों से अलग अलग सूचनाएं सामने आई हैं.

Source: Purvanchal media