नकली दवाई ले सकती है जान, इस एप के जरिए करें पहचान

Tech
बाजार में नकली दवाइयों की भरमार है. आए दिन पता चलता है फलां दुकान पर भारी मात्रा में नकली दवाईंया पकड़ी गई हैं. वैसे आपको भी लगता है कि आपने जो दवा खरीदी है वह नकली हो सकती है तो आप एक मोबाइल एप से पता लगा सकते हैं कि आप जो दवा खाने जा रहे हैं वह वास्तविक है या नकली.
Image result for नकली दवाई ले सकती है जान, इस एप के जरिए करें पहचान'

नकली दवा की पहचान करने वाले इस खास एप का नाम ड्रगसेफ (Drugsafe) है  इसे तैयार किया है आरवी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के तीन विद्यार्थियों ने. इस एप के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने इन विद्यार्थियों को 15,000 डॉलर का इनाम भी दिया है. जिन विद्यार्थियों ने इस एप को तैयार किया है उनका नाम चिद्रूप आई, प्रतीक महापात्र  श्रीहरी एचएस है.

ड्रगसेफ एप दवाइयों के कंपोजिशन की जांच करता है  मिनटों में बता देता है कि वह दवा वास्तविकहै या नकली. इस एप के जरिए यह भी पता लगाया जा सकता है कि किसी खास दवा को कौन सी कंपनी बनाती है.

कंपोजिशन के अतिरिक्त बैच, लोकेशन, ब्लूप्रिंट  विश्वसनीयता की भी जांच करता है. इस एप में ऑप्टिकल चैरेक्टर रिकॉग्निशन (OCR) तकनीक का प्रयोग किया गया है.  ड्रगसेफ के जरिए आप नकली दवाओं की शिकायत भी कर सकते हैं.

Source: Purvanchal mEDIA