इस घटना पर असम से दिल्ली तक मचा हाहाकार, यहाँ जाने क्या है माजरा

National
राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के मसौदे के प्रकाशन के बाद असम में दशा का जायजा लेने पहुंचे तृणमूल कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधिमंडल को हवाई अड्डे पर रोके जाने के बाद सियासत  तेज हो गई है. पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि बीजेपी राष्ट्र में ‘सुपर आपातकाल’ लगा रही है. काछाड़ के जिला उपायुक्त ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बतााया कि तृणमूल कांग्रेस पार्टी के छह नेता सिलचर हवाईअड्डे पर रातभर रोके जाने के बाद असम से रवाना हो चुके हैं बाकि दो अन्य देर दिन में रवाना होंगे.
Image result for सिलचर की घटना

वहीं टीएमसी ने इसी मुद्दे पर आज लोकसभा में असम डीजी  राज्य के गृह सचिव के विरूद्धविशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव ला सकती है, उन्होंने इसके लिए नोटिस भी दे दिया है. उम्मीद जताई जा रही है कि शुक्रवार को भी संसद में इस मुद्दे पर बहुत ज्यादा बवाल हो सकता है. टीएमसी के साथ-साथ पूरा विपक्ष इस मुद्दे को लेकर गवर्नमेंट पर निशाना साधे हुए है.

सिलचर हवाईअड्डे पर रोके जाने पर टीएमसी नेता एस एस रॉय ने कहा, ‘ विमान से सभी 77 यात्रियों को बाहर जाने दिया गया, केवल हम 6 लोगों को नहीं जाने दिया गया. इसके चलते हमें हमारी जनसभा रद्द करनी पड़ी. हम केवल हालातों का मुआयना करना चाहते थे.

पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने घटना की निंदा की  दावा किया कि उनकी पार्टी के सदस्यों से हवाईअड्डा पर हाथापाई की गई. उन्होंने बोला कि बीजेपी इस घटना से बेनकाब हो गयी है उन्होंने जानना चाहा कि किस कानून के तहत तृणमूल प्रतिनिधिमंडल को रोका गया.

यह मुद्दा गुरुवार को लोकसभा में भी उठा. सौगत राय के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस पार्टी सदस्यों ने पार्टी के कुछ सांसदों को हिरासत में लिए जाने के विरूद्ध प्रदर्शन किया  सदन में गवर्नमेंट से एक जवाब मांगा.

तृणमूल कांग्रेस पार्टी सांसद काकोली घोष दस्तीदार, अर्पिता घोष, ममता ठाकुर, सुखेंदू शेखर रॉय नदीमुल हक के अतिरिक्त राज्य में मंत्री फरहद हकीम  विधायक महुआ मित्रा को हिरासत में ले लिया गया है.

दिल्ली से कोलकाता लौटने पर ममता ने संवाददाताओं से बोला कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि एनआरसी के मुद्दे पर किसी को नहीं सताया जाएगा. लेकिन तृणमूल प्रतिनिधिमंडल को सिलचर हवाईअड्डा नहीं जाने दिया गया. उनसे हाथापाई की गई. यहां तक कि महिला सदस्यों को भी नहीं बख्शा गया.

Source: Purvanchal media