48 सौ छात्र संख्या वाले रामपुर महाविधायलय में इतिहास प्रवक्ता न होना दुर्भाग्य -उपासना ठाकुर

National

रामपुर बुशहर / विशेषर नेगी

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छात्र संगठन के बैनर तले रामपुर
महाविद्यालय के छात्रों ने महाविद्यालय परिसर में आक्रोश रैली निकाली और
प्राचार्य के कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया। उस के बाद छात्रों ने
प्राचार्य को ज्ञापन देते हुए बताया कि 48 सौ की छात्र संख्या वाले इस
महाविद्यालय में इतिहास का एक भी प्रवक्ता ना होना दुर्भाग्य की बात
है। एक ओर सरकार शिक्षा को बढ़ावा देने की बात कर रही है , लेकिन रामपुर
महाविद्यालय में इतिहास का प्रवक्ता ना होना सरकार और कालेज प्रबंधन
शिक्षा के प्रति कितनी साझ है अंदाजा लगाया जा सकता है। कॉलेज प्रबंधन
इस हालात को देखते हुए जिम्मेदारी से पीछे हट रही है। तर्क दे रहा है
कि छात्र विषय बदले। लेकिन छात्रों का कहना है कि जिस विषय में उनकी रुचि
होगी उसी विषय के साथ आगे भी पढ़ाई करेंगे।इस दौरान अखिल भारतीय
विद्यार्थी परिषद रामपुर इकाई अध्यक्ष राहुल ,सचिव रोहित, उपाध्यक्ष
प्रदीप ,लक्ष्मी नेगी, आरती नेगी ,पायल चौहान ,अभी राणा, दीपा मेहता, रवि
शर्मा, मुकेश कश्यप, विक्रम शर्मा ,उपासना ठाकुर आदि ने बताया कि कॉलेज
में प्रवक्ताओं की कमी के अलावा अन्य समस्याएं भी है जो कॉलेज स्तर पर
ही निपटान किया जा सकता है। लेकिन अभी तक यह समस्या हल हुई। उन्होंने कहा
कि एबीवीपी छात्र संगठन अगला कदम प्रदेश सरकार के खिलाफ आक्रोश प्रदर्शन
का उठाएगी और साथ में क्रमिक भूख हड़ताल जारी किया जाएगा। छात्रों ने यह
भी नाराजगी जताई कि प्राचार्य के कार्यालय में कुछ प्राध्यापकों द्वारा
उनके साथ बदसलूकी की ,जो निंदनीय है। उन्होंने कहा कि कॉलेज छात्र मूलभूत
सुविधाओं व शिक्षा के अधिकार को लेकर के शिक्षकों की मांग के लिए
प्राचार्य के कार्यालय गए। लेकिन उन्हें अपनी बात रखने से रोकने का
प्रयास हुआ है। उन्होंने बताया कि सरकार शिक्षा का अधिकार दे रही है
लेकिन बिना शिक्षक के इस अधिकार को कैसे पाया जा सकता है। छात्रों ने
बताया कि रामपुर महाविद्यालय में ग्रामीण परिवेश से जुड़े छात्र शिक्षा
ग्रहण करने आते हैं। ग्रामीण गरीब परिवार किसी तरह अपने बच्चों को उच्च
शिक्षा देकर रोजगार के लायक बनाना चाहते हैं। लेकिन इतिहास जैसे आम विषय
का कोई भी प्रवक्ता ना होना बड़े दुर्भाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छात्र संगठन हक की लड़ाई के लिए पीछे हटने
वाला नहीं है। कॉलेज प्राचार्य पीसी कश्यप ने छात्रों को बताया कि उनकी
समस्याओं को दूर किया जाएगा लेकिन इसके लिए वक्त चाहिए। उन्होंने छात्रों
से सयम बरतने की अपील की।

The post 48 सौ छात्र संख्या वाले रामपुर महाविधायलय में इतिहास प्रवक्ता न होना दुर्भाग्य -उपासना ठाकुर appeared first on News Views Post.

Source: News views