इंदिरा इस मुकाम पर पहुचने वाली आठवी महिला

National

देश के सर्वोच्च न्यायलय सुप्रीम न्यायालय के 68 वर्ष के इतिहास में अब तक सिर्फ सात महिलाएं ही जज बन पाई है. लेकिन इस कड़ी में अब एक  नाम जुड़ गया है. दरअसल जस्टिस इंदिरा बनर्जी हिंदुस्तान की शीर्ष न्यायालय में न्यायाधीश बन चुकी है. इंदिरा इस मुकाम पर पहुचने वाली आठवी महिला है. उनसे पहले फातिमा बीवी, सुजाता वी मनोहर, रूमा पाल, ज्ञान सुधा मिश्रा, राजन प्रकाश देशाई, आर भानुमति  इंदु मल्होत्रा भी सुप्रीम न्यायालय में जज के पद पर रह चुकी हैं.

Image result for जस्टिस इंदिरा बनर्जी बनीं सुप्रीम न्यायालय की आठवीं महिला जज

शुक्रवार को जारी एक अधिसूचना में बोला गया था, ‘भारत के संविधान के अनुच्छेद 124 के खंड (2) द्वारा प्रदत्त शक्तियों के इस्तेमाल में, राष्ट्रपति मद्रास उच्च कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश कुमारी न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी को सुप्रीम न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करते हुए खुश हैं.उन्हें सुप्रीम न्यायालय में जज के रूप में नियुक्त किया जाता है, जिस तारिख से वो अपना कार्यभार संभालती हैं.‘बता दें कि इंदिरा बनर्जी इससे पहले मद्रास उच्च कोर्ट की चीफ जस्टिस भी रह चुकी है.उन्होंने यह पद 5 अप्रैल, 2017 को ग्रहण किया था. उन्होंने जस्टिस संजय किशन कौल की स्थानली थी, जिन्होंने उस समय शीर्ष न्यायालय में जज का पदभार संभाला था.

इसके अतिरिक्त शुक्रवार को एक  रिकॉर्ड बना है. दरअसल सुप्रीम न्यायालय के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब इसमें एक ही समय पे तीन महिलाएं जज रहेंगीं. इनमे इंदिरा मुखर्जी के साथ-साथ जस्टिस इंदु मल्होत्रा  आर भारती शामिल है. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि इंदु मल्होत्रा ऐसी पहली महिला जज है जिन्हें बार से सीधे सुप्रीम न्यायालय में नियुक्त किया गया है.

Source: Purvanchal media