एकेटीयू VC पर शोध चोरी का आरोप, राजभवन से सदन तक कारनामों की गूंज

International

लखनऊ:  सूबे में तकनीकी शिक्षा मुहैया कराने वाले डॉ एपीजे अब्‍दुल कलाम टेक्किनल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर विनय पाठक की पीएचडी डिग्री को लेकर विवाद गर्मा गया है। प्रोफेसर विनय पाठक पर आरोप है कि उन्‍होंने अपनी पीएचडी में दूसरों की थीसिस के कंटेंट का बड़ी मात्रा में प्रयोग किया है। या यूं कहें तो उन्‍होंने दूसरों के शोध को चुरा कर अपने नाम से पीएचडी डिग्री हासिल की है। इस मामले में यूजीसी प्रोफेसर पाठक के रिसर्च पब्लिकेशन की जांच करने का मन बना चुकी है। इस मामले को लेकर राज्‍यसभा में प्रश्‍न हुआ था, जिसमें इनकी जांच कराने की बात एचआरडी राज्‍य मंत्री एस पी सिंह ने स्‍वीकारी थी।

हैरत की बात ये है कि प्रोफेसर विनय कुमार पाठक पर इतने संगीन आरोपों के बावजूद गवर्नर रामनाईक ने उन पर भरोसा जताते हुए उन्‍हें पुन: तीन सालों के लिए एकेटीयू का वाइस चांसलर नियुक्‍त कर दिया है।

सपा- कांग्रेस के एमएलसी ने खोला मोर्चा

प्रोफेसर विनय कुमार पाठक पर शोध चोरी के आरोपों के बावजूद उन्‍हें पुन: वीसी बनाए जाने को लेकर समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील सिंह और कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने गवर्नर रामनाईक को पत्र लिखकर इनकी नियुक्ति पर प्रश्‍न उठाया है। इतना ही नहीं उन्‍हें तत्‍काल पद से हटाने की मांग भी की गई है।

अन्‍य वीसी भी रडार पर 

प्रोफेसर विनय पाठक के शोध चोरी मामले के अलावा देश के कुछ अन्‍य कुलपतियों के कारनामों की गूंज संसद तक पहुंची है। मानव संसाधन विकास राज्‍य मंत्री सत्‍यपाल सिंह ने बताया कि पिछले तीन वर्षों में पुदुच्‍चेरी यूनिवर्सिटी के वीसी चंद्र कृष्‍णमूर्ति, महात्‍मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के कुलपति अनिल कुमार उपाध्‍याय और एकेटीयू के वीसी प्रोफेसर विनय कुमार पाठक के खिलाफ गंभीर शिकायतें मिली हैं।

The post एकेटीयू VC पर शोध चोरी का आरोप, राजभवन से सदन तक कारनामों की गूंज appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack