सुप्रीम न्यायालय के इतिहास में आज राष्ट्र के लिए काला दिन, जाने क्यों कहा जाता है काला दिवस

National

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने जस्टिस एएम जोसेफ का पद घटाने को लेकर टिप्पणी की है. उन्होंने इसके लिए गवर्नमेंट पर भी निशाना साधा है. साथ ही बोला कि आज न्यायालय के इतिहास में काला दिन है. उन्होंने बोला कि न्यायपालिका को कुछ आत्मा खोज करने की आवश्यकता है.

Image result for सुप्रीम न्यायालय के इतिहास में आज राष्ट्र के लिए काला दिन

बता दें कि जस्टिस केएम जोसेफ की सुप्रीम न्यायालय में वरीयता घटाने पर पैदा हुए टकराव पर गवर्नमेंट ने बोला है कि न्यायालय के जजों की वरीयता के सिद्धांत के आधार पर यह निर्णय लिया गया. लिहाजा, जस्टिस जोसेफ, इंदिरा बनर्जी  विनीत सरन का शपथ ग्रहण तय प्रोग्राम और केंद्र की अधिसूचना में दिए वरीयता क्रम के मुताबिक मंगलवार को ही होगा.

इससे पहले सोमवार को कॉलेजियम के सदस्य जस्टिस एमबी लोकुर, एके सीकरी  कुरियन जोसेफ समेत कई जजों की ओर से सीजेआई दीपक मिश्रा के समक्ष वरिष्ठता क्रम को लेकर चिंता जताई गई. जस्टिस रंजन गोगोई को छोड़कर कॉलेजियम के बाकी सदस्यों ने चाय के दौरान सीजेआई से जस्टिस जोसेफ की वरीयता घटाने के केंद्र के निर्णय का विरोध किया. सीजेआई ने उन्हें भरोसा भी दिलाया कि वह मामले को उठाएंगे.

सूत्रों की मानें तो शपथ ग्रहण प्रोग्राम में अब ज्यादा समय नहीं बचा है. ऐसे में ज्यादा कुछ नहीं किया जा सकता. लोकसभा में सोमवार को शून्यकाल के दौरान कांग्रेस पार्टी सांसद के वेणुगोपाल ने जस्टिस जोसेफ का नाम लिए बिना गवर्नमेंट को घेरते हुए बोला कि केंद्र न्यायपालिका में हर नियुक्ति मनमर्जी से करना चाहता है.

Source: Purvanchal media