प्रोबायोटिक से हो सकती है अस्पष्टता और आत्मविस्मृति

International
अकसर माना जाता है कि प्रोबायोटिक से पेट बिल्कुट फिट रहता है। इसी वजह से लोग इसका सेवन भी करते हैं। लेकिन ज्यादा प्रोबायोटिक भी सेहत के लिए घातक हो सकता है। इस बात का खुलासा किया है अमेरिका के वैज्ञानिकों की टीम ने। इन वैज्ञानिकों में एक भारतीय वैज्ञानिक भी शामिल है। वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रोबायोटिक के ज्यादा सेवन से अस्पष्टता और आत्मविस्मृति जैसा विकार हो सकता है। इसके साथ ही इससे तेजी से पेट भी फूल सकता है। वैज्ञानिकों ने सलाह दी है बिना डॉक्टर की सलाह के इसका सेवन न करें।
Image result for प्रोबायोटिक से हो सकती है अस्पष्टता और आत्मविस्मृति

प्रोबायोटिक ऐसे जीवाणु होते हैं जो विशेष तौर पर पाचन में सहायक होते हैं। यह अध्ययन 30 मरीजों पर किया गया और शोधकर्ताओं ने पाया कि 22 में भ्रम की स्थिति और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई जैसी समस्या पाई गई। इसके अलावा प्रोबायोटिक ले रहे सभी लोगों में गैस और पेट फूलने की समस्या भी पाई गई।

अमेरिका में औगस्ता विश्वविद्यालय के सतीश एस सी राव ने बताया कि शोधकर्ताओं को मरीज की छोटी आंत में बैक्टीरिया का एक बड़ा समूह देखने को मिला। उन्होंने बताया कि प्रोबायोटिक बैक्टीरिया कुछेक मामलों में फायदेमंद होते हैं। जैसे ये एंटिबायोटिक लेने के बाद मरीज की आहार नलिका में बैक्टीरिया को पुन: स्थापित करने में मददगार होते है। शोधकर्ताओं ने इसके अत्याधिक और अंधाधुंध उपयोग में सावधानी बरतने की सलाह दी है।

Source: Purvanchal media