सतलुज नदी पर बनी तीनो बढ़ी परियोजनाओं से बिजली उत्पादन दूसरे दिन भी ठप

National

विशेषर नेगी/ रामपुर बुशहर

सतलुज नदी पर स्थापित किन्नौर और रामपुर क्षेत्र की तीनो प्रमुख बिजली
परियोजनाओं से बिजली उत्पादन दूसरे दिन भी ठप है। अभी भी सतलुज नदी में
सिल्ट की मात्रा काफी अधिक है जिस से आने वाले पांच घंटो में विद्युत
उत्पादन होना सम्भव नहीं है। पहाड़ो पर भारी वर्षा के कारण सतलुज की सहायक
नदियों का जलस्तर बढ़ने के साथ पानी अधिक मटमैला हो गया था। इस के अलावा
तिब्बत की और से आने वाली सतलुज और स्पीति नदी संगम स्थल खाब में भी
सतलुज और स्पीति नदी में गाद काफी अधिक मात्रा में है, । ऐसे में सतलुज
नदी में अधिक गाद आने के कारण एक हजार मेगावाट की करछम वांग्तू , 15 सौ
मैगावाट की नाथपा झाकड़ी और 412 मेगावाट की रामपुर परियोजना से बिजली
उत्पादन ठप हो गया है। नाथपा झाकड़ी परियोजना प्रमुख संजीव सूद ने बताया
की परियोजना से विद्युत उत्पादन बंद हुए 30 घंटे से अधिक समय हुआ है।
उन्होंने कहा अब खाब नामक स्थान में सिल्ट कम होने लगा है , वर्तमान में
ख़ाब में 20 हजार पार्ट पर मिलियन सिल्ट की मात्रा है। उन्होंने कहा
सम्भावनाये जताई जा रही है की चार पांच घंटे में सिल्ट की मात्रा सामान्य
होगी और परियोजनाओं से पुनः विद्युत उत्पादन होगा। उल्लेखनीय है की तीनो
परियोजनाओं से 2900 मैगावाट से अधिक बिजली तैयार होती है और उत्तरी भारत
के नौ राज्यों को बिजली सप्लाई की जाती है। अकेले नाथपा झाकड़ी परियोजना
से दैनिक करीब दस करोड़ का राजस्व हिमाचल और केंद्र सरकार को मिलता है।
हालंकि सतलुज नदी का जल स्तर बाईट रोज 15 सौ क्यूमेक्स के मुकाबले आज 800
क्यूमेक्स हो गया है। इस से भी स्तिथि जल्द सामान्य होने का अनुमान है।

The post सतलुज नदी पर बनी तीनो बढ़ी परियोजनाओं से बिजली उत्पादन दूसरे दिन भी ठप appeared first on News Views Post.

Source: News views