रामपुर के दत्तनगर में दुग्ध उत्पादकों ने किया मुख्य मार्ग जाम , दूध का समर्थन मूल्य मांगा तीस रूपये

National

रामपुर बुशहर / विशेषर नेगी

-हिमाचल किसान सभा के बैनर तले 3 जिलों के 6 ब्लॉकों के
दुग्ध उत्पादकों ने रामपुर के समीप दत्त नगर में मुख्य मार्ग पर धरना
प्रदर्शन किया। आधे घंटे तक मुख्य मार्ग को जाम रखने के बाद मिल्कफेड
के मिल्क चिलिंग प्लांट पहुंचे । मुख्य मार्ग पर धरना प्रदर्शन के
दौरान मार्ग पर वाहनों की दोनों ओर लंबी-लंबी कतारें लगी। प्रदर्शनकारी
प्रशासन से मौके पर आकर हस्तक्षेप की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि
16 जुलाई को दुग्ध उत्पादकों ने ज्ञापन दिया था ,उस पर अब तक कोई अमल
नहीं हुआ। ऐसे में उन के पास आंदोलन के सिवा और कोई रास्ता नहीं था। दूध
उत्पादको ने रैली की शक्ल में दत्तनगर नगर स्थित मिल्क चिलिंक प्लांट
परिसर में पहुंचने के बाद भाषणबाजी शुरू की।
प्रदर्शनकारियों ने बताया कि वह सरकार से मांग कर रहे हैं कि
पशुओ को दी जाने वाली फीड सरकारी उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से
किसानों को मुहैया करवाई जाए। इसके अतिरिक्त पशु चिकित्सालय एवं
डिस्पेंसरियों में पर्याप्त स्टाफ मुहया करवाई जाए। वर्तमान में पशु
चिकित्सायो एवं डिस्पेंसरियों में दवाइयां नहीं है। उन्होंने कहा
कि उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक दूध का समर्थन मूल्य 30 रूपये
नहीं किया जाता। दुग्ध उत्पादकों का अगला कदम हिमाचल विधानसभा सत्र के
दौरान 6 खंडों के दुग्ध उत्पादक अपनी मांग को रखेंगे।
सीपीएम के राज्य सचिव डॉक्टरओंकार शाद ने कहा क्षेत्र में
पानी से दूध सस्ता बिक रहा है ,14 से लेकर 18 रूपये प्रति लीटर दूध के
दाम दिया जा रहा है. वे दूध का समर्थन मूल्य 20 रूपये मांग कर रहे हैं।
उनके का दूध की निष्पक्ष जाँच के लिए दूध एकत्रीकरण केन्द्रो में
इलेक्ट्रॉनिक मशीन लगाने की मांग कर रहे है। दुधारू पशुओ को फीड उचित
मूल्य की दुकानों में मिले। उन्होंने कहा कि 27 अगस्त को 6 खंडो के लोगों
एकत्रित हो कर विधानसभा कुछ करेंगे। ठियोग के विधायक राकेश सिंघा ने अपने
सम्बोधन में कहा केंद्र और प्रदेश सरकार किसान विरोधी है। सरकार दुग्ध
उत्पादकों के प्रति सचेत नहीं है। दुग्ध उत्पादकों का शोषण हो रहा है
इसी कारण क्षेत्र में दूध सस्ता बोतलबन्द पानी महैगा बिक रहा है। इस के
लिए लोगो को संघर्ष करना होगा।
सीटू के नेता बिहारी सेवगी ने बताया कि मज़दूर भी किसान के
साथ इस आंदोलन में उतरे हैं ,क्योंकि मजबूर भी एक किसान है और दूध
उत्पादन करते हैं। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों एवं दूध उत्पादकों की
मांग पूरी नहीं होती मजदूर भी उनका साथ आंदोलन के लिए देंगे।
-किसान सभा शिमला जिला अध्यक्ष देवकी नंद ने बताया 16 जुलाई को दूध
उत्पादको ने मिल्कफेड प्रबंधन और प्रशासन को ज्ञापन दिया था और उन्होंने
अपनी मांग रखी थी। उनकी समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया था।
लेकिन ना तो दूध का मूल्य बढ़ाया गया और ना ही उनकी समस्याओं को हल
किया गया। इस लिए धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया है। उन्होंने कहा
आगे आने वाले समय में यह प्रदर्शन जारी रहेगा और विधानसभा में भी अपनी
आवाज को बुलंद करेंगे।

The post रामपुर के दत्तनगर में दुग्ध उत्पादकों ने किया मुख्य मार्ग जाम , दूध का समर्थन मूल्य मांगा तीस रूपये appeared first on News Views Post.

Source: News views