योगी सरकार में तैयार होंगे 403 आयुष गांव, ये है मास्‍टर प्‍लान

National
योगेश मिश्र

लखनऊ: प्रदेश सरकार ने आयुष पर फोकस करने का मन बना लिया है। इसके लिए सरकार न केवल एक भारी भरकम फंड जारी करने की तैयारी में है। बल्कि प्रदेश भर में चार सौ तीन आयुष गांव बनाने का भी फैसला किया गया है। अब मेडिसिन बोर्ड को कृषि महकमे से हटाकर आयुष के अधीन किए जाने की प्रक्रिया भी तेज कर दी गई है। छत्‍तीसगढ़, गुजरात सरीखे राज्‍यो में आयुष को लेकर की गई व्‍यवस्‍था को उत्‍तर प्रदेश में मॉडल के तौर पर स्‍वीकार किया गया है।

हर विधानसभा में बनेगा एक आयुष गांव

सरकारी स्‍तर पर लिए गए फैसले के मुताबिक हर विधानसभा क्षेत्र में एक आयुष गांव होगा। कौन सा गांव चयनित किया जाए, यह निर्णय इलाकाई विधायक पर छोड़ दिया गया है। जिस भी गांव को आयुष गांव बनाया जाएगा, वहां की महिलाओं को औषधीय खेती की जानकारी दी जाएगी। गांव के हर व्‍यक्ति का नाड़ी परीक्षण कर उनहें एक पत्रिका उपलब्‍ध कराई जाएगी, जिसमें यह लिखा होगा कि उनका आहार विहार कैसा हो। उनको अगर कोई बीमारी होगी तो बताया जाएगा कि किस औषधीय पौधे से उन्‍हें इस बीमारी से मुक्ति मिल सकती है। गांव के लोगों को गिलोय, शंखपुष्‍पी, आदि औषधीय पौधों की पहचान कराई जाएगी। बताया जाएगा कि अगर आयरन की कमी हो तो उसे शलजम के पत्‍ते से कैसे दूर किया जा सकता है। प्‍लेटलेट्स कम हों तो पपीते के पत्‍ते का उपयोग कितना मुफीद होता है।

ग्रामीण क्षेत्रों में होंगे वेलनेस सेंटर

ग्रामीण क्षेत्रों में वेलनेस सेंटर खोलने को भी अमली जामा पहनाए जाने की तैयारी में आयुष महकमा है। सचिव आयुष मुकेश मेश्राम ने संक्रामक बीमारियों से रोकथाम के लिए आयुष सहयोगियों को इन बीमारियों वाले क्षेत्रों में घर-घर जाकर प्रिवेंटिव मेडिसन की खुराक देने के निर्देश दे दिए हैं। होम्‍योपैथ और आयुर्वेद ही नहीं यूनानी तथा योगा को भी
प्रोत्‍साहित करने की दो दर्जन से अधिक योजनाएं जल्‍द ही आयुष महकमा लांच करने जा रहा है। आयुष विश्‍वविद्यालय का खोला जाना भी इसका एक भाग है।

अभी तक मेडिसन बोर्ड कृषि विभाग के अंतर्गत था। जिसके नाते उसकी कोई भूमिका प्रभावकारी नहीं हो पाती थी। लेकिन अब राज्‍य सरकार ने इसे आयुष महकमे के अधीन करके मजबूत बनाने की दिशा में ठोस कदम उठाए हैं। ताकि
औषधीय पौधों की खेती को बढावा देने और उनके लिए बाजार तैयार करने में उन किसानों को राहत मिले, जो इसकी खेती करना चाहते हैं।

4 हजार अस्‍पतालों में सिर्फ 400 के पास बिल्डिंग

अभी तक यूपी में 4 हजार आयुष अस्‍पताल हैं, जिसमें केवल 400 की बिल्डिंग है। सरकार ने अब सभी जगह अस्‍पताल बनाने के लिए अनुपूरक बजट में ही धनराशि का प्रावधान कर दिया है। कम धनराशि के बावजूद अस्‍पतालों का
निर्माण कैसे संभव हो इसके लिए मनरेगा सरीखी योजनाओं के कंवर्जेंस को भी हरी झंडी दिखा दी गई है।

The post योगी सरकार में तैयार होंगे 403 आयुष गांव, ये है मास्‍टर प्‍लान appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack