केरल में भारी बारिश : खोले गए 24 बांध के दरवाजे, लोगों को बचाने के लिए सेना डटी

International

तिरुवनंतपुरम: केरल में भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। पेरियार नदी के लगातार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए कोच्चि एयरपोर्ट के डूबने की आशंका जताई जा रही है। सभी जिलों में कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। राहत कैंप भी लगाए जा रहे हैं। वहीं आर्मी और एयरफोर्स के साथ एनडीआरएफ की टीमें भी फंसे हुए लोगों को बाहर निकालकर सुरक्षित स्थानों में भेज रही हैं। पिछले 24 घंटे केरल के अलग-अलग हिस्सों में लगातार हो रही बारिश के चलते 26 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 4 गायब बताए जा रहे हैं।

(function ($) {
var bsaProContainer = $(‘.bsaProContainer-2’);
var number_show_ads = “0”;
var number_hide_ads = “0”;
if ( number_show_ads > 0 ) {
setTimeout(function () { bsaProContainer.fadeIn(); }, number_show_ads * 1000);
}
if ( number_hide_ads > 0 ) {
setTimeout(function () { bsaProContainer.fadeOut(); }, number_hide_ads * 1000);
}
})(jQuery);

आर्मी और एयरफोर्स का रेस्क्यू आपरेशन
आर्मी और एयरफोर्स मिलकर इदुक्की और वायानाड में रेस्क्यू आपरेशन चला रही हैं। वहीं बढ़ते जलस्तर की वजह से 24 बांध भी खोले गए हैं। इसमें इदुक्की बांध भी शामिल है जहां पानी खतरे के निशान के ऊपर जा चुका है। इसका भी एक दरवाजा आंशिक तौर पर खोला गया है जिससे एक सेकंड में 50 हजार लीटर पानी मुक्त किया गया। भारी बारिश से हुई तबाही को देखते हुए कई इलाकों में रेड अलर्ट जारी किया गया है। सरकार के मदद मांगने के बाद चार नेवी टीमें और एक सी किंग हेलिकॉप्टर वायानाड में फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए पहुंच चुके हैं। आर्मी के 200 जवान अयानकुलु, इदुक्की और वायनाड में तैनात हैं जबकि 150 जवान कोझिकोड और मल्लापुरम की ओर भेजे गए हैं। बारिश और भूस्खलन के चलते वायनाड और इदुक्की में भारी नुकसान हुआ है।
ये भी पढ़ें…केरल: भारी बारिश बनी कहर, लैंडस्लाइड और बाढ़ की वजह से 26 लोगों की हुई मौत

सभी जिलों में बनाए गए कंट्रोल रूम
इसी के साथ एर्नाकुलम के दो गांवों में रिलीफ कैंप भी खोले गए हैं जहां शरणार्थियों को रखा गया है। इदुक्की जिले में 11, मलाप्पुरम में 6, एर्नाकुलम में 3, कोझिकोड में 2 और वायानाड में 1 की मौत हो गई है। 4 लापता हैं। स्थिति को देखते हुए सरकार की ओर से सभी जिलों में 24×7 काम करने वाले कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। इसी के साथ 1077 हॉटलाइन नंबर को सभी बाढ़ प्रभावित जिलों में सक्रिय है।

लैंडिंग सेवा फिर शुरू हुई
उधर कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (सीआईएएल) ने पेरियार नदी में बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए हवाईअड्डा क्षेत्र के जलमग्न होने की आशंका के तहत गुरुवार दोपहर एक बजे के करीब यहां विमानों की लैंडिंग पर रोक लगा दी थी। सीआईएएल पेरियार नदी के निकट स्थित है। हालांकि 3 बजकर 5 मिनट पर दोबारा सेवा शुरू की गई थी।
ये भी पढ़ें…केरल में बारिश और भूस्खलन से भारी तबाही, 20 लोगों की मौत

अमेरिका ने दी यात्रा न करने की सलाह
बारिश और बाढ़ से जूझ रहे केरल की स्थिति देखते हुए अमेरिका ने अपने नागरिकों यात्रा पर जाने से बचने की सलाह दी है। इसमें कहा गया है कि दक्षिण-पश्चिमी मानसून के कारण राज्य में भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन की घटनाएं हो रही हैं। ऐसे में अमेरिकी नागरिकों को राज्य के सभी प्रभावित क्षेत्रों की यात्रा करने से परहेज करना चाहिए। इसमें कहा गया है कि केरल में भूस्खलन और बारिश के कारण आने वाली बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में जाने से बचें।

 

 

The post केरल में भारी बारिश : खोले गए 24 बांध के दरवाजे, लोगों को बचाने के लिए सेना डटी appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack