पीम मोदी ने अपने सपनों का ‘नया भारत’ बनाने का किया था आह्वान

National
15 अगस्त 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले की प्राचीर से लगातार चौथी बार देश को संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से 2022 तक अपने सपनों का ‘नया भारत’ बनाने का आह्वान करते हुए कहा कि यह पूरे देश के लिए गौरव की बात होगी।
Image result for पीम मोदी ने अपने सपनों का ‘नया भारत’ बनाने का किया था आह्वान

आजादी के पावन अवसर पर देशवासियों को कोटि-कोटि शुभकामनाएं। आज पूरा देश स्वतंत्रता दिवस के साथ जन्माष्टमी का पर्व भी मना रहा है। सुदर्शन चक्रधारी मोहन से लेकर चरखाधारी मोहन तक हमारी विरासत हैं।

देश की आजादी के लिए, देश की आन बान शान के लिए, देश के गौरव के लिए हजारों लोगों ने बलिदान दिया, यातनाएं झेली हैं, उन सभी महानुभावों को, माता बहनों को सवा सौ करोड़ देश वासियों की ओर से उनको नमन करता हूं। कभी कभार प्राकृतिक आपदा हमारे लिए चुनौती बन जाती है। अच्छी वर्षा देश को फलने फूलने में योगदान देती है, लेकिन जलवायु परिवर्तन से प्राकृतिक आपदा भी आई।

सामूहिक शक्ति से परिवर्तन 
कोई छोटा नहीं होता कोई बड़ा नहीं होता। एक गिलहरी भी परिवर्तन की प्रक्रिया का हिस्सा बनती है। 2022 में सामूहिक शक्ति के द्वारा हम परिवर्तन ला सकते हैं। न्यू इंडिया में हर किसी को समान अवसर मिले, यहां पर भारत का विश्व में दबदबा बने। हम अगले पांच साल के लिए न्यू इंडिया का संकल्प लें।

हमारे हर कर्तव्य में राष्ट्रभाव होना चाहिए
सभी अपना काम कर रहे थे और सभी के मन में यह भाव था कि वह देश की आजादी के लिए अपना योगदान दे रहा हैं। देश को गरीबी से मुक्त कराने के लिए हमारे हर कर्तव्य में राष्ट्रभाव होना चाहिए। इससे परिणाम की ताकत अनेक गुणा बढ़ जाती हैं। 21वीं शताब्दी में जन्मे लोगों के लिए 2018 खास है, वह सब इस साल 18 वर्ष के हो जाएंगे, वे देश में अपना योगदान दे सकते हैं।

चलता है का जमाना चला गया

चलता है का जमाना अब चला गया है। हम अब बदल रहे हैं, बदल गया का विश्वास होना चाहिए। साधन हो और विश्वास हो, तभी परिवर्तन आता है। आजाद भारत में देश की सुरक्षा स्वाभाविक बात है। हर यूनिफॉर्म फोर्स ने हर जरूरी मौके पर अपना कर्तव्य निभाया है। आतंकवाद हो या नक्सलवाद इन वर्दिधारियों ने बलिदान दिया, जब सर्जिकल स्ट्राइक हुई दुनिया ने हमारे लोगों की ताकत को माना, हमारा लोहा माना। देश की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है, सागर हो या स्पेस हो हमारी सुरक्षा प्राथमिकता है।

आज पूरा देश स्वतंत्रता पर्व के साथ-साथ जन्माष्टमी का पर्व भी मना रहा है। मैं मेरे सामने देख रहा हूं, बहुत बड़ी संख्या में बाल-कन्हैया भी यहां उपस्थित हैं। सुदर्शन-चक्रधारी मोहन से ले करके चरखाधारी मोहन तक, हमारी सांस्कृतिक, ऐतिहासिक विरासत के हम सब धनी हैं। देश की आजादी के लिए, देश की आन-बान-शान के लिए, देश के गौरव के लिए जिन-जिन लोगों ने अपना योगदान दिया है, यातनाएं झेली हैं, बलिदान दिया है, त्याग और तपस्या की पराकाष्ठा की है, ऐसे सभी महानुभावों को, माता-बहनों को मैं लालकिले की प्राचीर से सवा सौ करोड़ देशवासियों की तरफ से शत-शत नमन करता हूं, उनका आदर करता हूं।

लोग ईमानदारी का महोत्सव मना रहे  
गरीबों को लूटकर तिजोरी भरने वाले लोग चैन की नींद नहीं सो पा रहे हैं। लोग ईमानदारी का महोत्सव मना रहे हैं। लोगों में नया भरोसा आया है, बेनामी संपत्ति का कानून सालों से रखा था। हमने लागू किया, इतने कम समय में 800 करोड़ की बेनामी संपत्ति जब्त की गई।

वन रैंक वन पेंशन लागू किया
30-40 वर्ष से ओआरओपी का मामला अटका था, इस सरकार ने उसे पूरा किया। जीएसटी के द्वारा फेडरलिज्म को बढ़ावा मिला है। जीएसटी को सफलता से लागू किया गया है। इतने कम समय में यह कामयाबी से लागू हुआ, आज दोगुनी रफ्तार से सड़क बन रही है। आज दोगुनी रफ्तार से रेल पटरी बिछाई जा रही है।

आज जो सरकार कहती है वह करती है 
29 करोड़ गरीबों के बैंक खाते खुलते हैं, 9 करोड़ किसानों को सॉयल हेल्थ कार्ड बना है तब देश प्रगति पर आगे बढ़ता है। युवाओं को रोजगार के लिए कर्ज मिलता है। कम ब्याज पर पैसा मिलता है, तब जाकर देश आगे बढ़ता है और लोगों में विश्वास आता है। आज जो सरकार कहती है वह करती है। तीसरी और चौथी श्रेणी नौकरी में इंटरव्यू खत्म किया गया है।

विश्व में बढ़ रही भारत की साख 
आज भारत की साख विश्व में बढ़ रही है। आज आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई में पूरा विश्व हमारे साथ है। लोग हमें तमाम जानकारी दे रहे हैं। कालेधन पर हमारा साथ दे रहा है। भारत की शांति और सुरक्षा में भी वैश्विक संबंध हमारे काम आ रहा है।

कश्मीर को फिर स्वर्ग बनाएंगे
जम्मू कश्मीर की सरकार के साथ-साथ देश उनके साथ है। हम कश्मीर को फिर स्वर्ग बनाएंगे। न गाली से समस्या सुलझेगी, न गोली से समस्या सुलझेगी, सिर्फ उन्हें गले लगाकर समस्या का हल होगा। आतंकवाद से कोई समझौता नहीं होगा, सभी को मुख्यधारा से जोड़ा जाएगा। सुरक्षाबलों के प्रयासों से लोग अब मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं, नक्सलवाद कम हो रहा है।

कम्पीटीटिव कॉपरेटिव फेडरलिज्म का है जमाना

पहले कई मुद्दों पर केंद्र और राज्यों में हमेशा द्वंद्व चलता था। इसमें यूरिया भी एक मुद्दा था, वह अब खत्म हो चुका है। अब कम्पीटीटिव कॉपरेटिव फेडरलिज्म का जमाना है। बिजली के कारोबार में भी केंद्र और राज्य मिलकर काम कर रहे हैं।

स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है
हमारे देश के सभी राज्य भारत सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं। लोकतंत्र मतपत्र तक सीमित नहीं रह सकता है। स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, सुराज्य में अधिकार है। जब गैस सब्सिडी छोड़ने की बात आई, लोग अपने आप आगे आए। नोटबंदी में लोगों ने सरकार का साथ दिया। आज भ्रष्टाचार के खिलाफ नकेल लगाने में सरकार सफल हो रही है।

दाल का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है
लोगों की भागीदारी की परंपरा से देश आगे बढ़ रहा है। लाल बहादुर शास्त्री का जिक्र कर जय जवान जय किसान की बात कही। दाल का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है, देश में दाल खरीदने की परंपरा नहीं रही। देश के किसानों को पानी की समस्या है हम इस दिशा में काम कर रहे हैं और जल्द ही उनकी यह समस्या खत्म हो। बीज से बाजार तक किसानों की समस्या को खत्म किया जाएगा।

मुद्रा योजना से युवाओं को रोजगार मिला
मुद्रा योजना से युवाओं ने रोजगार पैदा किए हैं, शिक्षा के क्षेत्र में सरकार ने बहुत काम किया है। शिक्षा को नौकरी से जोड़ने का काम किया जा रहा है, माताओं बहनों के लिए रोजगार कानून में बदलाव किए गए हैं। तीन तलाक के मुद्दे पर अपनी बात रखी, पीड़ित महिलाओं ने जोरदार आंदोलन किया। देश में माहौल बनाया, इन महिलाओं की इस लड़ाई में हिंदुस्तान उनकी मदद करेगा।

जातिवाद का जहर देश को नुकसान पहुंचाता है
आस्था के नाम पर कुछ लोग गलत काम करते हैं, सांप्रदायिकता और जातिवाद का जहर देश को नुकसान पहुंचाता है। आस्था के नाम पर हिंसा को जगह नहीं दी जा सकतीष। तीन सालों में सरकार ने कई काम किए। हम देश को नए ट्रैक पर ले जाने का प्रयास कर रहे हैं और कोशिश कर रहे हैं कि देश के प्रगति की गति कम न हो। हमने हर प्रकार के इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा दिया है।

कालेधन पर लगाई लगाम 
कालेधन पर एसआईटी बनाने के बाद अब तक सवा लाख करोड़ रुपये कालाधन पकड़ा है। नोटबंदी के जरिए भी सरकार ने कालाधन बाहर निकाला, करीब तीन लाख करोड़ रुपये नोटबंदी के बाद बैंकिंग सिस्टम में वापस आया है। पौने दो लाख करोड़ की राशि शक के घेरे में है, अब सभी को जवाब देना है। लाखों नए लोगों ने आईटीआर भरा है, 18 लाख लोगों को पहचाना गया है जिनकी आय बहुत ज्यादा है।

नोटबंदी के बाद यह पता लगा कि तीन लाख ऐसी कंपनियां पाई गईं जो हवाला का काम कर रही थीं, पौने दो लाख का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया। एक ही पते पर 400 कंपनियां चल रही थीं। देश के नौजवानों भविष्य के लिए यह लड़ाई जारी है, जीएसटी के कारण इस लड़ाई में मदद मिलेगी।

भारत सरकार एक वेबसाइट लॉन्च कर रही है जिसमें गैलेंट्री अवार्ड प्राप्त लोगों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो सके। तकनीकि मदद से कालेधन के खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी। आधार पारदर्शिता लाई जा रही है, भ्रष्टाचार पर रोक लगाई गई है।

जीएसटी के कारण ट्रांसपोर्ट जगत में हुआ लाभ

जीएसटी के कारण ट्रांसपोर्ट जगत में लाभ हुआ है, 30 प्रतिशत एफिसिएंसी बढ़ गई है। डिजिटल लेन-देन बढ़ रहा है, हमे कम कैश वाली योजना पर आगे बढ़ना चाहिए, हिंदुस्तान के हर जिले में डायलिसिस पहुंचाया गया है।

2022 तक न्यू इंडिया का संकल्प लें
हम तेजस हवाई जहाज के द्वारा दुनिया में नाम कमा रहे हैं। भीम ऐप का इस्तेमाल बढ़ा है। हम न्यू इंडिया का संकल्प लेकर आगे बढ़ें, सही समय पर अगर कोई कार्य पूरा नहीं किया गया तो इच्छित परिणाम नहीं मिलते। टीम इंडिया के लिए हमें संकल्प लेना होगा। 2022 तक न्यू इंडिया का संकल्प लें। गरीब के पास पक्का घर, बिजली पानी हो। देश का किसान चिंता में नहीं चैन से सोए।

इसी भावना के साथ आप सबको हृदय से मेरी बहुत बहुत शुभकामनाएं।
भारत माता की जय, वन्दे मातरम जय हिंद।
जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद।
भारत माता की जय, भारत माता की जय, भारत माता की जय।
वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम।
सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।

Source: Purvanchal media