भगवान शिव को यह अंक है सबसे प्रिय

Lifestyle

लाइफस्टाइल डेस्क। कहा जाता है कि तीन अंक किसी के लिए शुभ नहीं होता। तीन अंक पर ए​क काफी प्रचलित कहावत है जिसमें कहा जाता है कि तीन तिगाडा काम बिगाडा अर्थात तीन लोग हमेशा काम बिगाडते है, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि तीन अंक भगवान शिव का सबसे प्रिय अंक है। इनको त्रिलोक के देवता भी कहा जाता है वहीं भगवान शिव की पूजा में तीन अंक का काफी खास महत्व है।

त्रिशूल
भगवान शिव का अस्त्र​ त्रिशूल में तीन शूल होता है। यह त्रिशूल उनके तीन के साथ ग​हरे संबंध को दर्शाता है। शिव जी का यह एक मात्र एक अस्त्र है जिसमें तीन शूल है।


बेलपत्र
आपने कभी गौर किया हो तो शिवजी को हमेशा तीन संख्या वाले ही बेलपत्र चढाया जाता है। माना जाता है कि शिव को बेलपत्र काफी पंसद है। इसलिए भगवान शिव की कोई भी पूजा बेलपत्र के बिना पूर्ण नहीं होती।

त्रिनेत्र
सारे देवताओं में ​भगवान​ शिव ही एक ऐसे देव है जिनके तीन नेत्र है। शास्त्रों में भी ​शिव के लिए तीन अंक को शुभ माना गया है। वही शास्त्रों ने पूरे दिन को चार भागों में विभाजित किया है जिसमें ​भगवान शिव को तीसरे भाग में रखा गया है। यह भाग शाम का समय होता है, इस ​समय शिव की पूजा करना काफी फलदाई होता है।

Source: Rochak khabare