बागपत में मुस्लिम युवक को कांवड़ लाने पर नमाज पढ़ने से रोकने पर तनाव

National

मेरठ: उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के रंछाड़ गांव के बाबू खान के कांवड़ लाने के बाद उन्हें मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोकने का मामला तूल पकड़ गया है। इस मामले में हिंदू जागरण मंच के दीपक बामनौली ने कहा है कि मंच बाबहू खान के साथ है,यदि बाबू खान को तंग किया गया तो मंच सहन नहीं करेगा।

यह भी पढ़ें: यूपी: तमंचा लेकर विक्षिप्त ने पुलिस को 8 घंटे छकाया

उधर पुलिस ने मामले को तूल पकड़ता देख तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। इस घटनाक्रम को लेकर शनिवार को हिंदू समाज के लोंगो की गांव के शिव मंदिर में पंचायत हुई। ग्रामीण कर्ण सिंह के अनुसार पंचायत के बाद बैंडबाजों के साथ बाबू खान को कांवड़िया के वेश में कांवड़ के साथ गांव में बैंडबाजों के साथ जुलूस निकाला गया।

यह भी पढ़ें: अपने भ्रष्टाचार की जांच कराए योगी सरकार: अखिलेश

बहरहाल,पुलिस ने रंछाड़ गांव निवासी बाबू खान द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर जो कुछ बताया उसके अनुसार बाबू खान हरिद्वार से कांवड़ लाए थे। मंदिरों में जलाभिषेक किया। शुक्रवार को जुमे की नमाज अदा करने मस्जिद में गए तो कुछ लोगों ने उन्हें अपमानित करते हुए धक्के देकर निकाल दिया और हाथापाई व गाली-गलौज की। बाबू खान का कहना है कि रात को कुछ लोग घर आए और गंडासा लेकर उन्हें मारने के लिए दौड़ पड़े। उन्होंने भागकर जान बचाई।

उधर रंछाड़ गांव सेमिली जानकारी के अनुसार शनिवार से  बाबू खान के घर लोगों का तांता लगा है। बाबू खान घर आने वाले सभी लोंगो को हरिद्वार से लाया प्रसाद दे रहा है। गांव के कुछ लोगों ने बाबू खान के साथ गांव की गलियों में घूमकर बम-बम भोले के जयकारे लगाए। बाबू खान लोगों के साथ मस्जिद के पास स्थित मुस्लिम मोहल्ले में भी पहुंचे। वहां भी बम-बम के जयकारे लगाए गए।

हालांकि इलाके के इंस्पेक्टर देवेंद्र बिष्ट ने मुस्लिम बस्ती में किसी तरह के नारे या जयकारे नहीं लगाए जाने की बात से इंकार किया है। उन्होंने दावा किया है कि गांव में पूरी तरह शांति हैं और किसी तरह का कोई तनाव नही है। इंस्पेक्टर देवेंद्र बिष्ट ने आज बताया कि कि शुक्रवार की घटना में बाबू खान की तहरीर पर गांव के ही बाबू पुत्र लतीफ, चांद और शाबिर पुत्रगण लल्ला का शांतिभंग में चालान कर गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि आरोपी जिल्लू फरार है।

गांव में शांति है फिलहाल पुलिस दोनों पक्षों के साथ-साथ अन्य गणमान्य लोगों से बातचीत कर सुलह के प्रयास करने में जुटी है। दूसरी तरफ बाबू खान ने बताया कि हमले के बाद उसके बच्चे और पत्नी रिश्तेदारी में चले गए। वह घर पर अकेला है। आरोपितों ने उसे जान से मारने की धमकी भी दी है। ग्राम प्रधान पति देवेंद्र तोमर ने बताया कि बाबू खान के साथ मस्जिद में नमाज को लेकर कुछ कहासुनी हुई है।

आरोपी समझौता करना चाह रहे हैं। भाईचारा कायम करने के लिए दोनों पक्षों में समझौता कराया जाएगा।द्य इस मामले पर आरोपितो का कहना है कि बाबु खान शुक्रवार को जब मस्जिद में पहुचा तो उसने शराब पी हुई थी जो उनके धरम के खिलाफ है इसीलिए उसे मस्जिद में जाने से रोका गया था।

The post बागपत में मुस्लिम युवक को कांवड़ लाने पर नमाज पढ़ने से रोकने पर तनाव appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack