नर्सिंग कोर्स में नौकरी की अपार संभावनायें, एडमिशन के पहले रखें इन बातों का ध्यान

National

लखनऊ: नर्सिंग कोर्स इन दिनों एक अच्छे करियर के रूप में उभरकर सामने आया है। यह एक ऐसा कोर्स है जिसे गांवों से लेकर शहर तक की छात्र करना पसंद करते हैं। यह क्षेत्र सिर्फ और सिर्फ महिलाओं के लिए ही नहीं है। इस क्षेत्र में पुरुष भी अपना भविष्य बना सकते हैं। आज हम आपकों इससे जुड़ी तमाम जानकारियां बताने जा रहे हैं।

क्या है नर्सिंग

नर्सिंग के क्षेत्र में कई तरह के कोर्स होते हैं। जैसे कि डिप्लोमा, अंडर ग्रेजुएट एवं सर्टिफिकेट आदि। अपनी योग्यता और रुचि के अनुसार छात्र चुनाव कर सकते हैं। अगर आपने नर्सिंग में बीएससी की है तो इसके बाद आप पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स भी कर सकते हैं। इसके तहत आप डाइटेटिक्स, कार्डियोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिक्स, ऑप्थेल्मोलॉजी, ऑथरेपेडिक्स आदि विभिन्न क्षेत्रों में भी विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। इस क्षेत्र में एमफिल और पीएचडी भी कर सकते हैं। बताते चलें कि नर्सिंग में प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही अधिकांश अच्छे संस्थानों में दाखिला होता है।

नर्सिंग में करियर

अगर आप नर्सिंग करना चाहते हैं तो आप सहायक नर्स/ मिडवाइफ/ हेल्थ वर्कर (एएनएम) कोर्स से शुरू कर सकते हैं। ये कोर्स दो वर्ष का होता है। यह एक डिप्लोमा कोर्स है जो विभिन्न व्यक्तियों के स्वास्थ्य देखभाल के अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करता है। इसके अलावा आप जनरल नर्स मिडवाइफरी (जीएनएम) कोर्स भी कर सकते हैं। ये साढे तीन साल का होता है। इसमें सामान्य स्वास्थ्य देखभाल, नर्सिंग और दाई का काम में नर्सों की शिक्षा से संबंधित है। जीएनएम नर्सिंग कार्यक्रम में सामान्य नर्सों को तैयार करना है जो स्वास्थ्य टीम के सदस्यों के रूप में कार्य करते हैं।

इसके अलावा आप नर्सिंग स्कूलों या कॉलेज से नर्सिंग में स्नातक भी कर सकते हैं। बीएससी (नर्सिंग) पाठ्यक्रम चार वर्ष का है। इनके अलावा आप पोस्ट-बेसिक स्पेशियलटी (एक वर्षीय डिपलोमा) करके विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञता भी पा सकते हैं।

कार्डियोलॉजिकल नर्सिंग

क्रिटिकल केयर नर्सिंग

नेफ्रोलॉजिकल नर्सिंग

न्यूरो-साइंस नर्सिंग

साइक्रेट्रिक नर्सिंग

पीडियाट्रिक नर्सिंग

ऑर्थोपीडिक नर्सिंग

ऑनकोलॉजिकल नर्सिंग

नर्सिंग के लिए योग्यता

शैक्षिक योग्यता

एएनएम

अगर आपको सहायक नर्स/ मिडवाइफ/ हेल्थ वर्कर (एएनएम) कोर्स करना है ते आपकी न्यूनतम योग्यता कम से कम 12 वीं पास (आर्टस या विज्ञान सटीर्म) होनी चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

जीएनएम नर्सिंग

इसके लिए कम से कम योग्यता 12 वीं पास होनी चाहिए वो भी भौतकी, रसायन, जीव विज्ञान के साथ। और साथ ही कम से कम 40% से 50% अंक भी होने चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

 

बीएससी (नर्सिंग)

इसके लिए 10 + 2 परीक्षा भौतिकी, रसायन, अंग्रेजी, जीव विज्ञान विषय सहित उत्तीर्ण होनी चाहिए। 10 + 2 अथवा इंटरमीडिएट परीक्षा में कम-से-कम 55 प्रतिशत अंक भी होने चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

नौकरी की संभावनाएं

जब आप इस नर्सिंग कोर्स को कर लेते हैं। तो आपकी शुरुआत होती है अस्पतालों में स्टाफ नर्स के तौर पर। फिर आप 2-3 साल में वार्ड सिस्टर बन जाती हैं।  नर्सिंग करने के बाद आप सरकारी और निजी अस्पतालों में नौकरी कर सकते हैं।  इतना ही नहीं इसके अलावा आप स्कूल हेल्थ नर्सेस, इंडस्ट्रीयल नर्स और आर्म्ड फोर्सेस, ड्रग कंपनी, कम्युनिटी हेल्थ नर्सेस, स्पेशल क्लिनिक व केयर सेंटर और काउंसलिंग सेंटर में भी नौकरी कर सकते हैं। साथ ही आप नर्सिंग कॉलेजों में टीचर भी बन सकते हैं। साथ ही आप 12वीं के बाद बीएससी नर्सिंग कर सेना में नर्स बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

नर्सिंग कोर्स फीस

नर्सिंग की पढाई का खर्च सरकारी कॉलेज और सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेज की फीस निजी कॉलेज से कम होती है। इसका औसत ट्यूशन शुल्क का शुल्क 10,000 रुपये से 5 लाख रुपयेके बीच होती है। जीएनएम के लिए औसत ट्यूशन शुल्क का शुल्क 4 साल की अवधि के लिए 10,000 से 5 लाख रूपये के बीच होती है। बीएससी नर्सिंग की फीस शुल्क प्रति वर्ष 8,000 से 30,000 रुपये के बीच है।

प्रवेश प्रक्रिया

ज्यादातर संस्थान ‘प्रत्यक्ष प्रवेश प्रक्रिया’ का पालन करते हैं 10 + 2 बोर्ड परीक्षा में उनके द्वारा किए गए अंकों के आधार पर योग्य आवेदकों के लिए सीटें आवंटित की जाती हैं। कुछ प्रतिष्ठित संस्थानों के मामले में, प्रवेश प्रक्रिया में निजी स्क्रीनिंग टेस्ट और इंटरव्यू का भी उपयोग किया जाता है।

The post नर्सिंग कोर्स में नौकरी की अपार संभावनायें, एडमिशन के पहले रखें इन बातों का ध्यान appeared first on Newstrack Hindi.

Source: Hindi Newstrack